होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /Leopard Attack: शिमला के जाखू में युवक पर तेंदुए का हमला, होटल से घर लौट रहा था विजय

Leopard Attack: शिमला के जाखू में युवक पर तेंदुए का हमला, होटल से घर लौट रहा था विजय

हिमाचल प्रदेश के शिमला शहर में तेंदुए का खौफ लगातार जारी है.

हिमाचल प्रदेश के शिमला शहर में तेंदुए का खौफ लगातार जारी है.

Leopard attack in Shimla: विजय ने बताया कि तेंदुए के हमले के बाद नीचे गिरते ही उसने शोर मचा दिया. उसके चिल्लाने की आवाज ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

जाखू मंदिर के रास्ते में युवक पर तेंदुए ने हमला कर दिया.
शिमला के निजी होटल में शैफ का काम करता है विजय.

शिमला. हिमाचल प्रदेश के शिमला शहर में तेंदुए का खौफ लगातार जारी है.  ताजा मामले में अब एक युवक पर तेंदुए ने हमला कर दिया. घटना 23 नवंबर की रात की है, जब युवक होटल से काम कर घर लौट रहा था. इस दौरान जाखू मंदिर के रास्ते में उस पर तेंदुए ने हमला कर दिया. हमले में युवक के हाथ में चोट लगी है. जाखू मंदिर को जाने वाले रास्ते में टका बैंच के पास युवक पर तेंदुए ने धावा बोला. बाद में युवक को शिमला के आईजीएमसी अस्पातल में इलाज के लिए ले जाया गया और उसकी मरहम पट्टी की गई. युवक के हाथ और बाजू पर गहरे जख्म हैं.

दरअसल, शिमला के निजी होटल में शैफ का काम करने वाले विजय ने बताया कि वह बुधवार (23 नवंबर 2022) रात करीब 11 बजे होटल से काम करके घर लौट रहा था. उसका घर जाखू एरिया में है. जब वह जाखू को जाने वाले टका बैंच के रास्ते पर जा रहा था, तभी पीछे से तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया. तेंदुए ने उसकी पीठ और बाजू पर पंजा मारा जिसकी वजह से वह जमीन पर गिर पड़ा. इसकी वजह से हाथ में चोट आई. उसकी बाजू और पीठ पर तेंदुए के पंजे की वजह से जख्म हो गए। लोग नहीं आते तो तेंदुआ उसे मार डालता.

शोर मचाने पर बची जान

विजय ने बताया कि तेंदुए के हमले के बाद नीचे गिरते ही उसने शोर मचा दिया. उसके चिल्लाने की आवाजें सुनकर आसपास से कुछ लोग दौड़कर टका बैंच की ओर आए. अगर मदद के लिए लोग नहीं पहुंचते तो तेंदुआ उसे मारकर जंगल में ले जाता. स्थानीय लोगों का कहना है कि इस इलाके में स्ट्रीट लाइट की दिक्कत है. पिछले करीब एक महीने से जाखू के लोगों ने प्रशासन को इसके बारे में बताया गया है, लेकिन अभी तक लाइट ठीक नहीं लग पाई है. रात की घटना के बाद स्थानीय लोग पूरी दहशत मे हैं. स्थानीय लोगों ने प्रशासन से अपील की है कि लाइट को दुरुस्त किया जाए और इस इलाके में जल्द से जल्द पिंजरा लगाया जाए.

शिमला में तेंदुए के हमले

इससे पहले भी शिमला के डाउनडेल में भी तेंदुए ने दीपावली की रात को एक बच्चे को ग्रास बनाया था. कनलोग में भी उससे पहले एक 5 वर्ष की बच्ची को तेंदुआ उठा ले गया था. उसके बाद वन विभाग द्वारा जगह जगह पिंजरे लगाए गए थे और तेंदुए को पकड़ने के लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआईआई)की टीम आई थी. बड़ी जद्दोजहद के बाद तेंदुआ पकड़ा गया था, लेकिन अब एक बार फिर तेंदुए की दहशत राजधानी में बढ़ गयी है.

Tags: Himachal pradesh, Leopard attack, Leopard hunt, Shimla

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें