लाइव टीवी

शिमला : फोरलेन निर्माण की जद में गरीबों के घर, नोटिस मिलने पर प्रभावित परिवारों ने मांगी मोहलत

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 23, 2019, 9:39 AM IST
शिमला : फोरलेन निर्माण की जद में गरीबों के घर, नोटिस मिलने पर प्रभावित परिवारों ने मांगी मोहलत
शिमला नागरिक सभा के नेतृत्व में उपायुक्त शिमला से मिला प्रतिनिधिमंडल

नागरिक सभा के नेतृत्व में प्रभावित परिवार का एक प्रतिनिधिमंडल डीसी से मिला और मार्च माह तक रहने के लिए आशियाना देने की मांग की. प्रभावित परिवारों का कहना है कि नगर निगम शिमला (Municipal Corporation Shimla) उन्हें मकान खाली करने के नोटिस दे रहा है. ऐसे में सर्दियों के महीने में अचानक वे अपने लिए कहां मकान ढूंढेंगे ?

  • Share this:
शिमला. राजधानी शिमला (Shimla) के लिए बनने जा रहा पहला फोरलेन गरीब लोगों के लिए मुसीबत बनकर आया है. इस फोरलेन का निर्माण (Four-Lane Construction) परवाणु से ढली तक किया जा रहा है. इसके तीसरे चरण में कैथलीघाट से ढली तक बनने वाले फोरलेन में ढली के समीप बने नगर निगम शिमला (Municipal Corporation Shimla) के आशियाने भी आ रहे हैं. इन आशियानों में शहर के वे गरीब लोग रहते हैं जिनके लिए नगर निगम ने आशियाना प्रोजेक्ट के तहत रहने को आवास बनाए हैं. आशियानों में रहने वाले परिवार को नगर निगम शिमला द्वारा मकान खाली करने के नोटिस दिए जा रहे हैं.

प्रभावित परिवारों ने किसी और जगह आशियाना दिए जाने की मांग की

नोटिस मिलने के बाद प्रभावित हो रहे लोगों ने प्रशासन का सहारा लिया है. इन्होंने प्रशासन से कुछ महीनों की मोहलत मांगी है. साथ ही प्रभावित हो रहे लोगों ने किसी और जगह आशियाना देने की मांग की है. शुक्रवार को नागरिक सभा के नेतृत्व में प्रभावित परिवार का एक प्रतिनिधिमंडल डीसी से मिला और मार्च माह तक रहने के लिए आशियाना देने की मांग की. प्रभावित परिवारों का कहना है कि नगर निगम शिमला उन्हें मकान खाली करने के नोटिस दे रहा है. ऐसे में सर्दियों के महीने में अचानक वे अपने लिए कहां मकान ढूंढेंगे ?

नगर निगम शिमला द्वारा दो साल पहले दिए गए इन आवासों में शहरी गरीब लोगों ने रहना शुरू ही किया था.


गौरतलब है कि दो साल पहले ही इन आवासों में शहरी गरीब लोगों ने रहना शुरू ही किया था कि फोरलेन ने इन्हें फिर उजाड़ दिया. केंद्र सरकार से मिली वित्तीय मदद से गरीबों के लिए आवास बनाए गए थे. ढली में एक दर्जन ब्लॉक बने थे और इनमें से आधे जमींदोज कर दिए गए हैं. इनमें अभी तक 6 परिवारों ने रहना शुरू कर दिया था और बाकी खाली पड़े थे और शिफ्ट करने की तैयारी में थे. ऐन मौके पर इस  फोरलेन प्रोजेक्ट ने गरीबों के सिर से छत छीन ली और गरीबों के अपने घर में शिफ्ट होने के सपने को चूर-चूर कर दिया.

ये भी पढ़ें - 7वीं कक्षा पास किसान ने बनाई 6 हजार रुपये की लागत से मक्का निकालने की मशीन

ये भी पढ़ें - इंस्पेक्टर कर रहा था टालमटोल, VIDEO बना तो काटा ‌BJP MLA अनिल शर्मा का चालान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 9:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...