HPU के वीसी प्रो. सिकंदर चाहौन की नियुक्ति को HC में चुनौती, सरकार से जवाब तलब

हिमाचल हाईकोर्ट में मामला.

हिमाचल हाईकोर्ट में मामला.

HPU VC Appointment issue: प्रार्थी ने हाईकोर्ट से गुहार लगाईं है कि प्रतिवादी को आदेश दिए जाए कि वह एचपीयू के वाइस चांसलर की नियुक्ति के लिए अपनी योग्यता अदालत को बताये और यदि उसकी योग्यता यूजीसी के रेगुलेशन के विपरीत पाई जाती है, तो उस स्थिति में उसकी नियुक्ति रद्द की जाए. मामले की सुनवाई 19 अप्रैल को निर्धारित की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 8:15 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (HPU) के वाइस चांसलर प्रोफेसर सिकंदर चाहौन की नियुक्ति को हिमाचल हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है. याचिका पर अब प्रदेश हाईकोर्ट (Himachal High Court) ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. प्रार्थी धर्मपाल की याचिका की प्रारंभिक सुनवाई के बाद मुख्य न्यायाधीश एल. नारायण स्वामी और न्यायाधीश अनूप चितकारा की खंडपीठ ने वाइस चांसलर को नोटिस जारी नहीं किया है.

क्या है आरोप

HPU के वाइस चांसलर की नियुक्ति के खिलाफ याचिका में आरोप लगाया गया है कि वाइस चांसलर की नियुक्ति नियमों के विरुद्ध की गई है. याचिका के माध्यम से अदालत को बताया गया कि प्रतिवादी वाइस चांसलर को यूजीसी रेगुलेशन के तहत 19 मार्च 2011 प्रोफेसर के पद पर पदोन्नत किया गया था. बाद में हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर के लिए आवेदन आमंत्रित किये. प्रतिवादी ने चयन कमेटी को गुमराह करते हुए अपने आवेदन में अनुभव के बारे में गलत तथ्य दिए. प्रतिवादी ने आवेदन में छह वर्ष और चार महीनों के अनुभव दिया और 1 जनवरी .2009 से खुद को प्रोफेसर बताया. जबकि प्रतिवादी को उन्हें मार्च 2011 प्रोफेसर के पद पर पदोन्नत किया गया था.

19 अप्रैल को होगी सुनवाई
प्रार्थी ने हाईकोर्ट से गुहार लगाईं है कि प्रतिवादी को आदेश दिए जाए कि वह एचपीयू के वाइस चांसलर की नियुक्ति के लिए अपनी योग्यता अदालत को बताये और यदि उसकी योग्यता यूजीसी के रेगुलेशन के विपरीत पाई जाती है, तो उस स्थिति में उसकी नियुक्ति रद्द की जाए. मामले की सुनवाई 19 अप्रैल को निर्धारित की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज