होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /दिल्ली टू लेह : 36 घंटे, 1072 किमी और 4 दर्रों का रोमांचक सफर 1399 रुपये में

दिल्ली टू लेह : 36 घंटे, 1072 किमी और 4 दर्रों का रोमांचक सफर 1399 रुपये में

HRTC BUS.

HRTC BUS.

देश के सबसे ऊंचे और लंबे रूट लेह-मनाली-दिल्ली पर साल मई 2008 में सबसे पहले बस सेवा शुरू हुई थी और अब बीते दस साल से हर ...अधिक पढ़ें

    विश्व के सबसे ऊंचे रूट दिल्ली मनाली-लेह पर बुधवार को हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) के बस सेवा का आगाज हो गया है. बुधवार सुबह हिमाचल के लाहौल स्पीति के जिला मुख्यालय केलॉंग से इस बस सेवा का आगाज हुआ.

    बुधवार सुबह साढ़े छह बजे सवारियों से भरी बस को केलांग से लेह को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया. यहां से लेह के लिए बस रवाना की गई है. बीते साल 15 सितंबर को यह बस सेवा बंद कर दी गई थी.

    साल 2008 में शुरू हुई थी सेवा
    लाहौल के डीसी अश्वनी चौधरी ने बस को केंलांग से रवाना किया. इस दौरान एचआरटीसी के केलांग डीपो के रीजनल मैनेजर मंगल चंद मनेपा भी मौजूद रहे. बता दें कि देश के सबसे ऊंचे और लंबे रूट लेह-मनाली-दिल्ली पर साल मई 2008 में सबसे पहले बस सेवा शुरू हुई थी और अब बीते दस साल से हर साल यह बस सेवा लेह जाने वाले के लिए उपलब्ध रहती है.

    1074 किमी का सफर 1399 रुपये किराया
    दिल्ली-मनाली-लेह रूट की दूरी 1072 किलोमीटर है. एचआरटीसी की ओर से 1399 रुपये किराया तय किया गया है. दिल्ली से लेह पहुंचने के लिए यात्रियों को 36 घंटे का समय लगेगा. केलांग के एचआरटीसी के रिजनल मैनेजर मंगल चंद मनेपा ने बताया कि पूरे सफर के दौरान तीन ड्राइवर और दो कंडक्टर बदलेंगे. सुंदरनगर और केलांग में चालक बदल जाएगा. केलांग में रात को बस के लिए हॉल्ट रहेगा. यहां से फिर सुबह बस चलेगी.

    मौसम साफ होने से मई में शुरू हुई सेवा
    इस बार मौसम में आए बदलाव के कारण ब़ॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (बीआरओ) की ओर से मनाली लेह हाईवे बहाल कर दिया गया है. इस कारण यह सुविधा रिकॉर्ड मई महीने में शुरू हो पाई है.

    मंगल सिंह चनेपा, एचआरटीसी, आरएम केलांग, ने बताया कि बीआरओ की ओर से लेह हाईवे को बहाल कर दिया गया है. इस बस सेवा के शुरू होने से देश-विदेश के सैलानियों को लाभ मिलेगा. एचआरटीसी की वेबसाइट पर ऑनलाइन भी बुकिंग करवाई जा सकती है. कुल्लू-मनाली में एचआरटीसी कार्यालय में एडवांस बुकिंग भी की सुविधा भी रहेगी.

    विश्व के टॉप सबसे चार ऊंचे दरों से गुजरेगी
    दिल्ली से लेह के रोमांचक सफर में यह बस और सैलानी रोहतांग पास (13050फीट), बारालाचा पास (16043 फीट) और तंगलांगला (17480फीट) और लाचूंगला पास (16598 फीट) से गुजरेंगे. इस दौरान सैलानी खतरनाक रास्तों के अलावा, प्रकृति के अदभुत नजारों का लुत्फ भी ले सकेंगे. यह बस केलांग, पटसू, जिंगजिंग बार, 21 लूप्स, व्हिस्की नाला और सूरजताल से होते हुए कई रमणीय स्थानों से गुजरेगी.

    तीन ड्राइवर और दो कंडक्टर बदलेंगे
    लेह से दिल्ली चलने वाली बस का पहला चालक लेह से केलांग तक सेवाएं देगा. दूसरा केलांग से सुंदरनगर तक और तीसरा ड्राइवर से दिल्ली तक बस पहुंचाएगा. वहीं, मनाली से लेह के बीच कई बार बस में परेशानी होने पर केलांग से दूसरी बस भेजी जाएगी. केलांग के एचआरटीसी के रिजनल मैनेजर मंगल चंद मनेपा ने बताया कि पूरे सफर के दौरान तीन ड्राइवर और दो कंडक्टर बदलेंगे.

    लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है यह सेवा
    दिल्ली से लेह तक चलने वाली इस बस सेवा का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है. बता दें कि लेह रूट का हमारे देश के लिए सामरिक दृष्टि से बहुत महत्व है. कारगिल युद्ध के दौरान इस रूट का प्रयोग भारतीय सेना ने असला बारूद पहुंचाने के लिए किया था.

    Tags: Delhi, Himachal pradesh, HRTC

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें