जिंदा को मृत दिखा अफसर पर 62 लाख रुपये हड़पने का आरोप, बेल पर सुनवाई टली

ऊना के बस अड्डे पर लम्बे समय से अशोक कुमार के पास निगम की दो दुकानें और कैंटीन किराए पर है. अशोक कुमार लगातार निगम को किराया देता रहा, लेकिन आरोपी दलजीत सिंह ने पैसा सरकारी खजाने में जमा नहीं करवाया.

G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 15, 2019, 9:51 PM IST
जिंदा को मृत दिखा अफसर पर 62 लाख रुपये हड़पने का आरोप, बेल पर सुनवाई टली
हिमाचल हाईकोर्ट में मामला चल रहा है.
G.S. Tomar
G.S. Tomar | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 15, 2019, 9:51 PM IST
हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जिला ऊना बस अड्डे पर दो सरकारी दुकानों और कैंटीन के किराएदार अशोक कुमार को मृत दिखाकर किराए के 62 लाख रुपये गबन का आरोप लगा है. यह गंभीर आरोप किसी और पर नहीं, बल्कि HRTC के डीएम पर लगा है.

भ्रष्टाचार का मामला दर्ज
आरोपी डीएम दलजीत सिंह इस वक्त एचआरटीसी मुख्यालय शिमला में तैनात हैं. सदर थाना ऊना में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज होने के बाद आरोपी ने गिरफ्तारी से बचने के लिए अब हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की है. जमानत याचिका पर पहले भी दो बार सुनवाई टल चुकी है और सोमवार को 2 अगस्त तक फिर सुनवाई टल गई.

झूठी रिपोर्ट सौंपी

आरोपी के खिलाफ 30 मई 2019 को ऊना सदर थाना में प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है.  आरोप है कि 23 मई 2017 को डीएम ने झूठ पर आधारित रिपोर्ट निगम को सौंपी और उसमें जिंदा किराएदार अशोक कुमार को मृत दिखाया गया. प्रदेश पथ परिवहन मजदूर सघं के अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने इस मामले को सरकार के संज्ञान में लाया और परिवहन मंत्री ने जांच के आदेश दिए और अधिकारी को निलंबित किया गया.

किराया दिया गया, लेकिन जमा नहीं करवाया
शंकर सिंह ठाकुर ने कहा कि ऊना के बस अड्डे पर लम्बे समय से अशोक कुमार के पास निगम की दो दुकानें और केंटीन किराए पर है. अशोक कुमार लगातार निगम को किराया देता रहा, लेकिन आरएम रहते हुए आरोपी डीएम दलजीत सिंह ने पैसा अपनी जेब में डाला और सरकारी खजाने में जमा नहीं करवाया.
Loading...

जब किराये की राशि 62 लाख रूपये के करीब पहुंची तो निगम प्रशासन ने किराया वसूलने के आदेश दिए. आरोपी ने एक कमेटी का गठन किया और रिपोर्ट में अशोक कुमार को मृत दिखाया गया और झूठी रिपोर्ट में यह कहा गया कि मृतक के पास न चल और न ही अचल संपत्ति है. ऐसे में किराया की राशि को माफ किया जाए. बाद में सारी राशि को हड़पने का आरोप दलजीत सिंह पर लगा और अब मामला कोर्ट में विचाराधीन है.

ये भी पढ़ें: सोलन हादसा: रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म, 13 जवानों समेत 14 की मौत

सोलन हादसा: धराशाई मकान की अंदर की शानदार Exclusive तस्वीरें
First published: July 15, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...