Home /News /himachal-pradesh /

HRTC के सेवानिवृत कर्मचारियों ने दी आत्मदाह की चेतावनी, 2 साल से नहीं मिली है पेंशन

HRTC के सेवानिवृत कर्मचारियों ने दी आत्मदाह की चेतावनी, 2 साल से नहीं मिली है पेंशन

हिमाचल पथ परिवहन निगम

हिमाचल पथ परिवहन निगम

बुढ़ापे में पेंशन के लिए दर-दर की ठोकरें खानें को मजूबर है. 166 कर्मचारियों को तो ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाना पड़ा, लेकिन न्याय नहीं मिला.

    हिमाचल पथ परिवहन निगम से सेवानिवृत 6 हजार कर्मचारियों को 2 साल से पेंशन नहीं मिली. HRTC के सेवानिवृत हजारों कर्मचारी अपने बुढ़ापे का सहारा पेंशन के लिए तरस रहे हैं. बुढ़ापे में पेंशन के लिए दर-दर की ठोकरें खानें को मजूबर है. 166 कर्मचारियों को तो ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाना पड़ा, लेकिन न्याय नहीं मिला. महज दो महीने की पेंशन देकर जख्म पर नमक छिड़कने का काम प्रदेश सरकार ने जरूर किया है. कर्मचारियों के अन्य भत्ते भी लम्बे समय से HRTC के पास लंबित पड़े हैं.

    HRTC के सेवानिवृत कर्मचारी कल्याण संघ के प्रदेशाध्यक्ष राजेंद्र पाल ने कहा कि सीएम जयराम और परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर से मुलाकात के बाद भी कर्मचारियों को पेंशन नहीं मिली. सीएम जयराम हर बार आश्वसन देकर कर्मचारियों को ठगने का काम कर रहे हैं. राजेंद्र पाल ने कहा कि प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर तो सेवानिवृत कर्मचारियों की समस्या सुनने तक की जहमत नहीं उठाते और अपने विधानसभा क्षेत्रों तक ही सीमित रहते हैं.

    HRTC सेवानिवृत कर्मचारी कल्याण संघ के अध्यक्ष राजेंद्र पाल ने कहा कि 14 जून को एचआरटीसी मुख्यालय शिमला में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा और सरकार को अपनी आवाज सुनाने का प्रयास सेवानिवृत कर्मचारी करेंगे. उन्होंने कहा कि सरकार ने अगर हमारी मांगे नहीं सुनी तो आमरण अनशन और आत्मदाह जैसे कदम उठाने से भी पिछे नहीं हटेंगे.

    ये भी पढ़ें- मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने ली चुटकी कहा, "राहुल ऐसे नेता हैं, जहां गए कांग्रेस हार गई"

    ये भी पढ़ें-हिमाचल प्रदेश में वाटर हीटिंग सिस्टम लगाने के लिए सरकार देगी सहायता

    Tags: Himachal pradesh news, Shimla, Shimla S08p04

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर