लाइव टीवी

आप कुफरी आएं तो दुर्लभ पशु व पक्षियों के दीदार के लिए हिमालय नेचर पार्क जरूर जाएं

Reshma Kashyap | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 15, 2019, 3:57 PM IST
आप कुफरी आएं तो दुर्लभ पशु व पक्षियों के दीदार के लिए हिमालय नेचर पार्क जरूर जाएं
कुफरी ज़ू में हिमालयन ताहर भी है, जिसका नाम कार्तिक रखा गया है. देश में हिमलयन ताहर केवल इसी ज़ू में है.

हिमलयन नेचर पार्क (Himalayan Nature Park) कुफरी में स्थित है. यहां कस्तूरी मृग (Musk Deer), हिमालयन ताहर, तेंदुए, भूरे भालू, दुलर्भ चेस्ट फीजेंट और वेस्टर्न टैगोपन देखने को मिल जाते हैं.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले में हिमलयन नेचर पार्क (Himalayan Nature Park) कुफरी में स्थित है. कुफरी (Kufri) शिमला के पर्यटन स्थलों में से एक है. यहां कस्तूरी मृग (Musk Deer) पाए जाते हैं. कस्तूरी मृग को मस्क डियर भी कहा जाता है. ये मृग केवल हिमालयन रीज़नस में पाए जाते हैं. इस मृग को 2017 में रिब्बा से रेसक्यू करके लाया गया था. इस प्रजाति के नर मृग की खास बात यह होती कि उसकी नाभी में कस्तूरी होती है. यही वजह है कि इस प्रजाति के हिरण शिकारियों के निशाने पर होते हैं.

यहां हिमालय ताहर के कर सकेंगे दर्शन

कुफरी ज़ू में हिमालयन ताहर भी है, जिसका नाम कार्तिक रखा गया है. देश में हिमलयन ताहर केवल इसी ज़ू में है. ये प्रजाति केवल पश्चिमि हिमालय में पाई जाती है. ताहर की खास बात ये है कि इनकी लुक काफी रॉयल होती है. सर्दियों में इनके चेहरे के चारों ओर बाल उग आ हैं जबकि गर्मियों में इनके बाल झड़ जाते हैं. यही नहीं यहां पर रखे गए नर और मादा तेंदुए को दखना भी सैलानियों के लिए अच्छा अुनभव होता है. नर तेंदुए का नाम शेरु और मादा तेंदुए का नाम हनीप्रीत रखा गया है. तेंदुए को अपनी आंखों के सामने इतने नजदीक से देखने में सैलानियों के लिए एक नया अनुभव है. यहां पर रखे गए इन तेंदुओं को रेस्क्यू करने के बाद यहां रख गया है.

Leopard
यहां पर रखे गए नर तेंदुए का नाम शेरु और मादा तेंदुए का नाम हनीप्रीत रखा गया है.


भूरे भालू भी आपको यहीं दिखेंगे

इसके अलाव भूरा भालू भी केवल कुफरी ज़ू में पर्यटकों को दिख सकता है. जू में तीन भूरे भालू है जो अक्टूबर से हाइबरनेशन पर चले जाते हैं. चिड़ियाघर के प्रबंधकों के लिए भालुओं के लिए एक गुफा भी बना रखी है. ज़ू में रखे गए हरेक जानवर का यहां के कर्मचारी काफी अच्छे से ध्यान रखते हैं. इनकी डाइट का और समय समय से डॉक्टरों से चेकअप भी करवाया जाता है.

जू की शान बढ़ाते हैं दुलर्भ चेस्ट फीजेंट और वेस्टर्न टैगोपनहिमालयन नेचर पार्क कुफरी में पक्षियों की भी बहुत सी दुर्लभ प्रजातियां भी हैं. इनमें चेस्ट फीजेंट और वेस्टर्न टैगोपन भी है एक हैं. पक्षियों की ये प्रजातियां भी केवल इसी जू में पाए जाते हैं. नेचर पार्क कुफरी में इतना सब होने के बाद भी अधिकतर पर्यटकों को इसके बारे में जानकारी नहीं है, क्योंकि नेचर पार्क का प्रचार उस स्तर पर नहीं किया जा रहा जितना होना चाहिए. शिमला आने वाले पर्यटक कुफरी में सिर्फ बर्फबारी देखने के लिए आते हैं.

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बर्फबारी से 297 सड़कें, 1102 ट्रांसफार्मर, 13 पेयजल योजनाएं ठप, 33 करोड़ की हानि

BREAKING: HRTC की बस पंचकुला में ट्रक से जा टकराई, पांच घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 3:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर