लाइव टीवी

स्कूल की कैमिस्ट्री लैब में ब्लास्ट: घायल बच्चों ने बताई घटना की पूरी कहानी
Shimla News in Hindi

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 18, 2020, 6:45 PM IST
स्कूल की कैमिस्ट्री लैब में ब्लास्ट: घायल बच्चों ने बताई घटना की पूरी कहानी
स्कूल लैब में घायल निकिता और छात्र सौरभ. बाकी दो बच्चों का चंडीगढ़ में इलाज चल रहा है.

Shimla School Lab Blast: स्कूल के प्रिंसिपल रामलाल डोगरा का कहना है कि वह मामले की जांच में पुलिस प्रशासन का पूरा सहयोग करेंगे. देरी से सूचना पर उन्होंने कहा कि बच्चों का इलाज उनकी प्राथमिकता थी.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के शिमला के ठियोग के मतियाना स्कूल की कैमिस्ट्री लैब में हुए विस्फोट (Chemistry Lab Blast) के मामले पर फॉरेंसिंक विभाग की प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ कि यह कैमिकल विस्फोट था. हाइड्रोक्लोरिक एसिड और अमोनिया के एक साथ मिलने से धमाके की संभावना जताई गई. फोरेंसिक लैब जुन्गा के सांइटिफिक ऑफिसर नसीब सिंह पटियाल ने इसकी पुष्टि की. पटियाल का कहना है कि लापरवाही के चलते यह विस्फोट हुआ. लैब में ज्वलनशील और विस्फोटक (Explosive) पदार्थ एक साथ रखे गए थे. प्रैक्टिकल के दौरान छात्रों को न तो मास्क दिए गए और न ही लैब कोर्ट.

कोई टीचर नहीं था मौके पर
दूसरी ओर प्रशासन, शिक्षा विभाग और पुलिस की प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ कि घटना के वक्त लैब में कोई शिक्षक नहीं था. कैमिस्ट्री टीचर बाहर मौखिक परीक्षा ले रहे थे. लैब अटेन्डेंट की क्या भूमिका रही, इसके बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी गई.

यह बोला घायल छात्र सौरभ



छात्र सौरभ की अंगुली में चोट लगी है. उसने बताया कि एक छात्र एक्सपेरिमेंट कर रहा था और उस वक्त करीब 8 छात्र लैब में मौजूद थे. जैसे ही छात्र ने फलास्क में कैमिकल डाला और एकदम गैस बननी शुरू हो गई. विस्फोट की आशंका को देखते हुए छात्र फ्लासक को जैसे ही बाहर फेंकने की कोशिश कर रहा था, उसी वक्त धमाका हुआ. जो छात्र दरवाजे से अंदर आ रहे थे वो धमाके की चपेट में आए. कांच के टुकड़े शरीर में घुस गए. दो छात्रों का पीजीआई में इलाज चल रहा है.



12 टांके लगे
घायल छात्रा निकिता वर्मा ने बताया कि धमाके के दौरान वह कमरे में घुसी ही हुई थी. इसलिए थोड़ा बचाव हो गया. छात्रा की आंखों के ठीक ऊपर कांच लगा है और उसे 12 टांके लगे हैं. हाथ में कांच के टुकड़े घुसे हैं, वहां पर टांके लगे हैं. 4 मार्च से परीक्षाएं हैं और घाव ठीक नहीं हुआ तो छात्रा लिख नहीं पाएगी.

मतियाना स्कूल में मौके पर जांच करते फोरेंसिक एक्सपर्ट.
मतियाना स्कूल में मौके पर जांच करते फोरेंसिक एक्सपर्ट.


एक घंटे बाद प्रशासन को सूचना
घटना सोमवार करीब पौने 12 बजे हुई, लेकिन प्रशासन को सूचना डेढ़ बजे दी गई. पुलिस को शाम 4 बजे के बाद आईजीएमसी के माध्यम से सूचना मिली. देरी को लेकर स्कूल प्रबंधन ने कहा कि वह छात्रों के इलाज के प्रबंध में जुटे हुए थे. तो सूचना देने की बात दिमाग से निकल गई. शिक्षकों ने छात्रों के इलाज के लिए 30 हजार रुपये की धनराशी जुटाई है. इलाज के लिए छात्रों के साथ ही है. प्रशासन ने भी प्रभावित को फौरी राहत दी है. छात्रों के इलाज का खर्च शिक्षा विभाग उठाएगा. इसका ऐलान शिक्षा मंत्री ने किया है.

यह बोले पुलिस और प्रिंसिपल
स्कूल के प्रिंसिपल रामलाल डोगरा का कहना है कि वह मामले की जांच में पुलिस प्रशासन का पूरा सहयोग करेंगे. देरी से सूचना पर उन्होंने कहा कि बच्चों का इलाज उनकी प्राथमिकता थी. वहीं, ठियोग थाने के एसएचओ संतोष कुमार ने बताया कि पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है.

ये भी पढ़ें: 

स्कूल में प्रैक्टिकल के दौरान एसिड ब्लास्ट, 4 छात्र झुलसे, 2 PGI रेफर

स्कूल में कैमिकल ब्लास्ट: घायल बच्चों के इलाज का खर्च उठाएगी हिमाचल सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 6:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading