COVID-19: हिमाचल की जेल में बंद ISIS आंतकी साथी कैदियों संग बना रहा मास्क
Shimla News in Hindi

COVID-19: हिमाचल की जेल में बंद ISIS आंतकी साथी कैदियों संग बना रहा मास्क
शिमला की कंडा जेल.

Corona Virus in himachal: जेल में सजा काट रहा एक चर्चित कैदी आबिद खान भी मास्क बनाने में जुटा है. आबिद खान को हिमाचल पुलिस और NIA ने एक संयुक्त ऑपरेशन में 2016 में कुल्लू से गिरफ्तार किया था. बाद में उसे एनआईए कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 8:38 AM IST
  • Share this:
शिमला. कोरोना संकट (Corona Virus) के बीच हर कोई अपने अपने तरीके से मदद में जुटा है. हिमाचल की जेलों में कैदी भी इस संकट की घड़ी में मदद में जुटे हैं. मास्क (Mask) की उपयोगिता को देखते हुए जेल (Jair) प्रशासन ने 15 मार्च से मास्क बनाने शुरू कर दिए थे. जेल में बन रहे मास्क अब न केवल लोगों के काम आ रहे हैं बल्कि इससे कैदियों (Prisoner) ने कुछ पैसे भी जोड़ लिए हैं. बता दें कि इन कैदियों में आईएसआई (ISIS) आतंकी और समर्थक आबिद खान भी शामिल है. उसे एनआईए (NIA) कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है.

शिमला की कंडा जेल में चल रहा काम
शिमला स्थित कंडा जेल में इन दिनों में जोरो-शोरों से मास्क बनाने का काम चल रहा है. यहां 24 पुरुष कैदी और 6 महिला कैदी मास्क बनाने के काम में जुटे हैं और अब तक 70 हजार से ज्यादा मास्क बनाए गए हैं. यहां पर बने मास्क न केवल कैदियों बल्कि जेल स्टाफ और विभिन्न विभागों को दिए गए हैं. जेल प्रशासन की योजना हर हाथ को काम के तहत जेल में एक सिलाई सेंटर चलता है. अन्य काम बंद होने के चलते प्रशासन ने फैसला लिया कि महामारी से उपजे संकट की इस घड़ी में मास्क बनाकर समाज की मदद की जा सकती है.

अब तक 80 हजार मास्क बनाए



शिमला की कंडा और सिरमौर जिले में स्थित नाहन जेल में कैदियों को मास्क बनाने का काम दिया गया और अब तक इन दोनों जेलों में 80 हजार से ज्यादा मास्क बनाए गए हैं. कुछ कैदी पहले से सिलाई में पारंगत थे तो कुछ लोगों को यहीं पर प्रशिक्षण दिया गया. विभागों को बाजार से सस्ते दामों पर यहां से मास्क दिए गए.



कैदियों को मिलते हैं दो रुपये प्रति मास्क
कैदियों को मेहनताने के रूप में 2 रुपये प्रति मास्क दिए जाते हैं. कार्य सीखने के बाद अब इन्हें कोई परेशानी नहीं है. इस काम में जुटे कैदी खुश हैं. लोगों को सतर्क रहने का संदेश दे रहे हैं. कैदियों की इस मुहिम से जहां एक ओर विभागों में मास्क की कमी पूरी की जा रही है तो वहीं दूसरी ओर कैदी कुछ पैसे भी जोड़ रहे हैं. जो पारंगत हो चुका है, वो अब तक 10 से 12 हजार रुपये कमा चुका है और जिसने हाल फिलहाल में यह काम सीखा है वो भी 5 से 7 हजार रुपये कमाए हैं.

शिमला में आबिद खान. (FILE Photo)
शिमला में आबिद खान. (FILE Photo)


कौन है आबिद खान
जेल में सजा काट रहा एक चर्चित कैदी आबिद खान भी मास्क बनाने में जुटा है. आबिद खान को हिमाचल पुलिस और NIA ने एक संयुक्त ऑपरेशन में 2016 में कुल्लू से गिरफ्तार किया था. बाद में उसे एनआईए कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई है. वह कुल्लू में एक चर्च में नाम बदलकर रहता था.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन: शिमला में अब घर बैठे जमा करवाएं पानी के बिल

हिमाचल के चिड़गांव में फिर से आग का तांडव,1 शख्स जिंदा जला, 2 झुलसे, 7 घर राख
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading