अपना शहर चुनें

States

हिमाचल में कोरोना मरीजों की पहचान के लिए सरकार ने शुरू किया हिम सुरक्षा अभियान

सीएम जयराम ठाकुर ने हिम सुरक्षा अभियान की शुरुआत की. (फाइल फोटो)
सीएम जयराम ठाकुर ने हिम सुरक्षा अभियान की शुरुआत की. (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने कहा कि कोरोना (Corona) के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई जगहों पर रात्रि कर्फ्यू लगाया गया है. फिर भी लोग नहीं मान रहे हैं. लिहाजा मजबूरी में सरकार को सख्ती करनी पड़ रही है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में लगातार बढ़ रही कोरोना मरीजों (Corona Patients) की संख्या को देखते हुए सरकार ने संक्रमितों की पहचान करने के लिए हिम सुरक्षा अभियान की शुरुआत की है. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने रिज मैदान से इस अभियान का शुभारंभ किया. ये अभियान प्रदेशभर में 25 नवंबर से 27 दिसंबर तक आयुर्वेद, महिला एवं बाल विकास, पंचायती राज विभाग, जिला प्रशासन और विभिन्न गैर-सरकारी संगठनों के सहयोग से चलाया जाएगा. इसके तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ता कोविड-19, तपेदिक, कुष्ठ रोग, मधुमेह और उच्च रक्तचाप के रोगियों की घर-घर जाकर जानकारी एकत्र करेंगे.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कोरोना का संकट थमने का नाम नहीं ले रहा है. पिछले कुछ दिनों में मामले तेजी से बढ़े हैं. मौत का आंकड़ा भी बढ़ा है. हिमाचल में तपेदिक, कुष्ठ व अन्य रोगियों की जानकारी हासिल करना इस अभियान का लक्ष्य है. हालांकि सरकार ने एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान भी शुरू किया था, जिसका लाभ भी मिला. लेकिन अब मामले बढ़े हैं, इसलिए कोरोना रोगियों की पहचान के लिए सरकार ने नए अभियान की शुरुआत की है. इसके तहत 8000 टीमें घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगी और रोग से जुड़ी जानकारी भी एकत्र करेंगी.

मजबूरी के चलते सरकार को लेने पड़े सख्त निर्णय



मुख्यमंत्री ने कहा कि अनलॉक में दी गयी छूट के बाद कोरोना के मामले बढ़े हैं. इसलिए कैबिनेट ने कई अहम निर्णय लिये हैं, ताकि कोरोना को फैलने से रोका जा सके. रात्रि कर्फ्यू पर मुख्यमंत्री ने कहा कि रात में शादियों में घरों के अंदर समारोह किया जाता है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल हो रहे हैं. सर्दियों में बंद कमरों में वेंटिलेशन न होने के कारण संक्रमण तेजी से फैलता है. इसलिये रात्रि कर्फ्यू लगाया गया है. लेकिन लोग इस पर भी समझ नहीं रहे. मजबूरी में सरकार सख्ती कर रही है, क्योंकि लोगों की लापरवाही बढ़ गई है.
अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से मौतों की होगी जांच

प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं है कि अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध है. अगर कहीं ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत हुई होगी तो उसकी जांच होगी.

समारोह में सीएम ने लोगों को कोविड नियमों का पालन करने की शपथ भी दिलाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज