• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • हिमाचल की स्पीति वैली में शुरू हुई JIO की सर्विस, लाहौल में भी लगे 8 टावर

हिमाचल की स्पीति वैली में शुरू हुई JIO की सर्विस, लाहौल में भी लगे 8 टावर

हिमाचल के स्पीति का काजा शहर.

हिमाचल के स्पीति का काजा शहर.

JIO Service started in Lahaul Spiti: अब लाहौल के अंदर 59 टॉवर और स्पीति में कुल 27 टॉवर लगने हैं. लाहौल में आठ जगह टावर खड़े कर दिए गए हैं, जिसमें खंगसर, मालंग, युनाद, कारदंग, जिस्पा और दारचा शामिल है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के शीतमरूस्थल कहे जाना वाला लाहौल-स्पीति (Lahaul Spiti) जिला बेशक सर्दियों में बर्फबारी के कारण शेष दुनिया से कट जाता है, लेकिन अब फोन और इंटरनेट सुविधा (Phone and Internet Serivce) से यह जिला पूरी दुनिया से जुड़ा रहेगा. लाहौल स्पीति के कई इलाकों में जियो (Jio Service) की कॉलिंग और इंटरनेट सुविधा शुरू हो गई है. जिले के स्पीति के काजा और समधो में जियो (Jio) के तीन टावर क्रियाशील हो गए हैं. हिमाचल प्रदेश के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री और लाहौल-स्पीति के विधायक डॉ. रामलाल मारकंडा ने इसकी पुष्टि की है.

लाहौल में लगे आठ टावर
बता दें कि लाहौल-स्पीति के दो हिस्से हैं, जिसमें स्पीति और लाहौल आता है. दोनों की भगौलिक स्थिति काफी दुर्गम है. लाहौल में 8 टॉवर लगाए गए हैं. यहां ऑप्टिकल फाइबर बिछाने का काम पूरा हो गया है. मंत्री मारकंडा ने कहा कि पहले जिले में केवल बीएसएनएल की सुविधा ही थी, लेकिन विधायक बनने के बाद जीयो सर्विस के लिए प्रयास किए गए. अब लाहौल के अंदर 59 टॉवर और स्पीति में कुल 27 टॉवर लगने हैं. लाहौल में आठ जगह टावर खड़े कर दिए गए हैं, जिसमें खंगसर, मालंग, युनाद, कारदंग, जिस्पा और दारचा शामिल है.



सैलानियों के राहत
दरअसल, लाहौल स्पीति टूरिस्ट डेस्टिनेशन है. काजा में पहले ही पर्यटन बढ़ रहा है. यहां पर देश की सबसे ऊंची आईएस स्केटिंग ट्रेनिंग भी शुरू हो गई है, जिसमें 45 ट्रेनर हिस्सा ले रहे हैं. इसके अलावा काजा का मिनी लद्दाख भी कहते हैं. ऐसे में जियो सेवा पर्यटन की दृष्टि से भी काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है.

लोगों के लिए राहत
कैबिनेट मंत्री ने कहा कि इससे अब पर्यटकों के परिजनों को भी इस बात की चिंता नहीं रहेगी कि उनका संपर्क नहीं हो पा रहा है. इसके साथ-साथ लाहौल स्पीति में सभी विभागों के कार्यों को ऑनलाइन दर्ज करवाने के लिए कुल्लू जाना पड़ता था लेकिन अब यह काम लाहौल-स्पीति में ही होगा.

काजा में हिमाचल के सबसे ऊंचे आईस स्केटिंग रिंक में कैंप शुरू हुआ है. (File PHOTO)
काजा में हिमाचल के सबसे ऊंचे आईस स्केटिंग रिंक में कैंप शुरू हुआ है. (File PHOTO)


सैलानियों की मुश्किलें होंगी कम
बता दें कि आपात स्थिति या बर्फबारी अधिक होने पर इस जिले का दूरसंचार से कनेक्ट नहीं होता था. अब जियो सर्विस शुरू होने आपातकाल में मदद मिलेगी. साथ ही सैलानियों के फंसने पर मदद के लिए सपंर्क हो पाएगा. बहरहाल, ऐसी स्थिति में जियो सेवा नए आयाम स्थापित करने जा रही है.

ये भी पढ़ें-हिमाचल के इकलौते सैनिक स्कूल में आठवीं के स्टूडेंट से रैगिंग, FIR

हिमाचल के पूर्व उद्योग मंत्री ने पहाड़ खोदने पर खर्चे 140 करोड़, होगी जांच!

मंडी का गबरू आशीष शर्मा बना फ्लाइंग ऑफिसर, उड़ाएगा फाइटर जेट

सुरक्षा में चूक-पुलिस बेखबर: रिज मैदान पहुंची हरियाणा नंबर की कार, कटा चालान

मंडी में सुनिश्चित किया जाएगा फुटबॉल का स्पोर्टस हॉस्टल- सीएम जयराम ठाकुर

जब भरी सभा में अनिल शर्मा को मंत्री महेंद्र सिंह-रामस्वरूप ने सुनाई खरी-खरी

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज