Home /News /himachal-pradesh /

जुब्बल-कोटखाई उपचुनाव: BJP में बगावत, बागी हुए चेतन बरागटा आजाद लडेंगे चुनाव

जुब्बल-कोटखाई उपचुनाव: BJP में बगावत, बागी हुए चेतन बरागटा आजाद लडेंगे चुनाव

 शिमला में जुब्बल कोटखाई सीट से बगावत.

शिमला में जुब्बल कोटखाई सीट से बगावत.

Jubbal-Kotkhai By-elections: चेतन बरागटा ने कहा, 'मेरी मां ने मुझसे कहा कि मुझे मुख्यमंत्री से पूछना है, आखिर हमारे परिवार के साथ ऐसा क्यों किया. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का सम्मान करते हैं, लेकिन उन्हें इसका जबाव देना होगा. नामांकन का जब आखिरी दिन रह गया तो बोला कि थैंक्यू यू, गेट लॉस्ट. चेतन ने कहा कि उन्हें तो खत्म कर दिया.

अधिक पढ़ें ...

शिमला. हिमाचल सरकार में पूर्व मंत्री स्वर्गीय नरेंद्र बरागटा के बेटे और भाजपा आईटी सेल के प्रभारी चेतन बरागटा ने पार्टी से बगावत कर दी है. चुनाव के लिए टिकट ना मिलने के बाद शिमला की जुब्बल- कोटखाई सीट से उन्होंने आजाद चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. जुब्बल-कोटखाई से भाजपा ने नीलम सरकैक को टिकट दिया है. कोटखाई में गुरुवार को टिकट कटने के बाद बरागटा ने समर्थकों के साथ रैली की. बैठक में लंबी चर्चा के बाद फैसला लिया है कि नामांकन पत्र आजाद प्रत्याशी के तौर पर भरा जाएगा. बरागटा अब आज नामांकन पत्र दाखिल करेंगे.

चेतन ने गुरुवार को गुम्‍मा में एक चुनावी बैठक की, जिसमें भारी संख्या में उनके समर्थक शामिल हुए. अपने संबोधन के दौरान चेतन बरागटा भावुक हुए और रो दिए. बरागटा ने खूब खरी-खोटी सुनाई और ऐलान किया कि अब जो जनता कहेगी वो वही फैसला करेंगे. बरागटा ने संबोधन में उन्होंने कहा कि मुझे टिकट नहीं देना होता तो पहले बता दिया होता. 15 साल तक पार्टी को मजबूत करने के लिए कार्य किया और अब परिवारवाद की बात कही जा रही है. उन्होंने कहा कि आज उन लोगों को टिकट दिया गया, जो कांग्रेस के साथ मिलकर पार्टी के खिलाफ कार्य करते रहे. इतना ही नहीं चेतन ने कहा कि पार्टी के किसी वरिष्ठ नेता या कार्यकर्ता को टिकट दिया होता तो पार्टी के साथ चलते, लेकिन ये जो टिकट थोपा गया है ये सहन नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि टिकट उन्हें दिया जो पार्टी को कमजोर करते रहे, शिमला में कॉफी पी पीकर आलोचना करते रहे.

मुख्यमंत्री ने हमारे साथ ऐसा क्यों किया, इसका जवाब देना होगा

चेतन बरागटा ने कहा,’ मेरी मां ने मुझसे कहा कि मुझे मुख्यमंत्री से पूछना है, आखिर हमारे परिवार के साथ ऐसा क्यों किया.उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का सम्मान करते हैं लेकिन उन्हें इसका जबाव देना होगा. नामांकन का जब आखिरी दिन रह गया तो बोला कि थैंक्यू यू, गेट लॉस्ट. चेतन ने कहा कि उन्हें तो खत्म कर दिया. बता दें कि चेतन बरागटा के पिता भाजपा नेता प्रेम कुमार धूमल के करीबी रहे हैं और उनकी सरकार में मंत्री भी रहे थे. इस बार उनके कैबिनेट मंत्री बनने के आसार थे, लेकिन उन्हें जयराम कैबिनेट में जगह नहीं दी गई थी. बता दें कि कांग्रेस ने यहां से हिमाचल के पूर्व सीएम रामलाल के पोते और 2012 में विधायक रहे रोहित ठाकुर को टिकट दिया है.

नीलम सरकैक क्या बोली

पार्टी की प्रत्याशी नीलम सरकैक का कहना है कि नरेंद्र बरागटा के पद चिन्हों पर चलेंगे और उनके दिखाए मार्ग पर चलेंगे. उनके कार्यों को पूरा करने का प्रयास करेंगे. उन्होंने कहा कि चेतन बरागटा मेरे छोटे भाई हैं, पहले टिकट की लड़ाई होती है, वो मेरी भी थी और उनकी भी, जिसे टिकट मिलता है पार्टी की ओर से फिर मिलजुल कर पार्टी के लिए कार्य करते हैं. उन्होंने कहा कि एकजुट होकर पार्टी के लिए कार्य करेंगे.

Tags: BJP, Himachal Politics, Shimla Monsoon

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर