• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • जुब्बल-कोटखाई उपचुनाव: चेतन बरागटा के लिए क्या लकी साबित होगा ‘सेब’ का निशान?

जुब्बल-कोटखाई उपचुनाव: चेतन बरागटा के लिए क्या लकी साबित होगा ‘सेब’ का निशान?

भाजपा से बागी हुए चेतन बरागटा पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं.

भाजपा से बागी हुए चेतन बरागटा पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं.

Jubbal Kotkhai By-elections: चेतन बरागटा ने शिमला में स्थित एशिया के सबसे पुराने बिशप कॉटन स्कूल से पढ़ाई की और बाद में डीयू दिल्ली से आगामी शिक्षा ग्रहण की है. बाद में पुणे से प्रोफेशनल शिक्षा हासिल की.

  • Share this:

शिमला. भाजपा से निष्कासित बागी चेतन बरागटा ने अपना नामांकन वापस नहीं लिया है और अब उन्हें सेब चुनाव चिन्ह मिला है. दरअसल, हिमाचल का कोटखाई, रोहड़ू और जुब्बल इलाका सेब उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है. यहां पर 2 हजार करोड़ रुपए की सेब आर्थिकी है. ऐसे में सेब चेतन बरागटा के लिए लकी चार्म हो सकता है. वैसे भी उनसे जब भी चुनावी मुद्दों को लेकर बात होती है तो वह कहते हैं कि सेब ही उनका मुद्दा है और अब तो चुनाव चिन्ह सेब मिलने से ‘सोने पर सुहागा’ हो गया है.

बुधवार को नामांकन वापस लेने के आखिरी दिन भी चेतन बरागटा ने अपना नामांकन वापस नहीं लिया और पार्टी ने उन्हें छह साल के लिए भाजपा से निष्कासित कर दिया. बाद में चेतन ने एक वीडियो के जरिए संदेश जारी किया और कहा कि उन्हें सेब चुनाव चिन्ह मिला है. उन्होंने लोगों से वोट डालने की भी अपील की. बता दें कि बरागटा को भाजपा के प्रत्याशी के मुकाबले काफी जनसमर्थन मिल रहा है. वे पहली बार आजाद प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं और कुछ माह पहले ही उनके पिता पूर्व विधायक नरेंद्र बरागटा की मौत हुई है. ऐसे में लोगों की सहानूभूति भी उनके साथ है.

पिता रहे थे बागवानी मंत्री

चेतन बरागटा के पिता नरेंद्र बरागटा यहां से दो बार विधायक रहे हैं. कांग्रेस की परम्परागत सीट से उन्होंने 2007 में सेंध लगाई थी और वह बागवानी मंत्री रहे थे. नरेंद्र बरागटा पूर्व सीएम धूमल के काफी करीबी रहे हैं. उन्हें सेब बेल्ट की बेहतरी के लिए काम करने के लिए जाना जाता है.

दो बार के विधायक से मुकाबला

चेतन बरागटा ने कहा कि उनका मुकाबला कांग्रेस से है. यहां से पूर्व सीएम रामलाल ठाकुर के पोते कांग्रेस नेता रोहित ठाकुर से अब चेतन बरागटा और भाजपा की नीलम सरैइक का मुकाबला है. रोहित ठाकुर यहां से दो बार के विधायक रह चुके हैं. वहीं, लोगों के समर्थन और चर्चाओं के अनुसार, माना जा रहा है कि भाजपा यहां से तीसरे नंबर पर रह सकती है. बता दें कि चेतन बरागटा ने शिमला में त एशिया के सबसे पुराने बिशप कॉटन स्कूल से पढ़ाई की और बाद में डीयू दिल्ली से पढाई की और बाद में पुणे से प्रोफेशनल शिक्षा हासिल की है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज