कलराज मिश्र सिर्फ 40 दिन ही रहे हिमाचल के राज्यपाल, अब मिली राजस्थान की जिम्मेदारी

स्‍वतंत्र मिश्र | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 1, 2019, 1:21 PM IST
कलराज मिश्र सिर्फ 40 दिन ही रहे हिमाचल के राज्यपाल, अब मिली राजस्थान की जिम्मेदारी
कलराज मिश्र ने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के बतौर बीते जुलाई माह की 22 तारीख को ही शपथ ली थी. (फाइल फोटो)

बीते जुलाई की 22 तारीख को ही कलराज मिश्र ने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल पद की शपथ ली थी. सिर्फ 40 दिन बाद ही उन्हें रास्थान का राज्यपाल बनाया गया है.

  • Share this:
पूर्व केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्‍तात्रेय को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है. दत्तरात्रेय से पहले कलराज मिश्र हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल थे. कलराज मिश्र को अब राजस्‍थान के राज्यपाल के बतौर जिम्मेदारी मिली है. गौरतलब है कि कलराज मिश्र ने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के बतौर बीते जुलाई माह की 22 तारीख को ही शपथ ली थी. सिर्फ 40 दिन में ही कलराज मिश्र को हिमाचल प्रदेश से स्थानान्तरित करके राजस्थान का राज्यपाल बनाने पर राजनीतिक हलकों में सुगबुगहाट पैदा हो रही है. हालांकि अभी तक किसी भी राजनेता ने सार्वजनिक तौर पर प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की है. गौरतलब है कि कलराज मिश्र वर्ष 2010 में हिमाचल बीजेपी के प्रभारी भी रह चुके हैं. इससे पहले 2003 में वे यूपी, और 2004 में राजस्थान और दिल्ली के प्रभारी बनाया गया था. वर्ष 2019 में उन्हें हरियाणा बीजेपी का प्रभार दिया गया था.

22 जुलाई 2019 को हुई थी कलराज मिश्र की ताजपोशी

हिमाचल के पूर्व राज्यपाल कलराज मिश्र की ताजपोशी 22 जुलाई 2019 में राजधानी शिमला में हुई थी. इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्धाज, मेयर कुसुम सदरेट सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे. अब ऐसा क्या हो गया कि सिर्फ 40 दिन में ही उन्हें हिमाचल से हटाकर राजस्थान का राज्यपाल बनाया गया?

कलराज मिश्र 2014 में केंद्रीय मंत्री रहे

Kalraj-Mishra-कलराज मिश्र
कलराज मिश्र वर्ष 2010 में हिमाचल बीजेपी के प्रभारी भी रह चुके हैं. (फाइल फोटो)


कलराज मिश्र 2014 बनी मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री थे. कलराज मिश्र 78 वर्ष के हैं और बीजेपी के कद्दावर नेताओं में उनकी गिनती होती है. मोदी सरकार की पहली पारी में उन्हें सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया था. वे यूपी के देवरिया लोकसभा सीट से चुनाव जीते थे. कलराज मिश्र ने वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में भाग नहीं लिया था.

राम मंदिर आंदोलन से भी जुड़े रहे कलराज मिश्र
Loading...

कलराज मिश्र का काफी लंबा राजनीतिक करियर है. 1977 में वह जनता पार्टी के चुनाव संयोजक बने. 1978 में वह राज्यसभा चुने गए. 1980 में भाजपा की स्थापना के बाद वे भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए और कलराज मिश्र राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे हैं. वे 1991, 1993, 1995 और 2000 में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं.

(शिमला से इनपुट सहयोग: जी.एस. तोमर)

यह भी पढ़ें: Breaking: मौसम का कहर जारी, रोहड़ू में बादल फटने से आई बाढ़, हजारों हुए प्रभावित

BJP नेता के रिश्तेदारों को हिमाचल पुलिस से उलझना महंगा पड़ा, सीधे पहुंचे थाने 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 1:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...