होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /VIDEO: कसौली हत्याकांड से पहले DSP ने दिए थे आरोपी की गिरफ्तारी के ऑर्डर

VIDEO: कसौली हत्याकांड से पहले DSP ने दिए थे आरोपी की गिरफ्तारी के ऑर्डर

कसौली हत्याकांड का आरोपी बिजली विभाग में कार्यरत है. फिलहाल, विभाग ने आरोपी को सस्पेंड कर दिया है. जानकारी के अनुसार, आ ...अधिक पढ़ें

    हिमाचल प्रदेश के कसौली हत्याकांड में महिला अफसर की जान बच सकती थी अगर पुलिस प्रशासन सजग होता, क्योंकि डीएसपी परवाणु ने घटना से पहले ही आरोपी की गिरफ्तारी आदेश दिए थे.

    दरअसल, अवैध निर्माण गिराने से पहले आरोपी होटल मालिक ने सुसाइड करने की धमकी दी थी. इस पर डीएसपी आरोपी को गिरफ्तार करने के आदेश दिए थे, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया.

    वहीं, घटना को अंजाम देने के बाद 12 घंटे बाद भी आरोपी होटल मालिक फरार चल रहा है. पुलिस अब भी उसे ढूंढने में नाकाम रही है. आरोपी की सूचना देने को लेकर पुलिस ने एक लाख रुपए इनाम देने की घोषणा भी की है.

    वारदात से पहले आत्महत्या की दी थी धमकी
    जब नारायणी गेस्ट हाउस का मालिक विजय प्रशासनिक अमले का विरोध कर रहा था तो उसने वहां पहुंचे अधिकारियों के सामने आत्महत्या की धमकी दी थी. इस पर डीएसपी रमेश शर्मा ने उसे गिरफ्तार करने के आदेश भी दिए थे.

    इस पर उसे दो पुलिस कर्मियों और एसएचओ ने हिरासत में भी लिया था, लेकिन उसे गिरफ्तार नहीं किया गया. अगर उसे उसी वक्त गिरफ्तार कर लिया जाता तो शायद इस घटना से बचा जा सकता था. पुलिसकर्मियों ने भी अंदाजा नहीं लगाया होगा कि उनकी छोटी से लापरवाही इतने बड़े घटना क्रम को अंजाम देगी.

    पुलिस की लापरवाही और नाकामी
    बता दें कि घटना के दौरान 50 पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद थे. पुलिस प्रशासन और भारी सुरक्षाकर्मियों के बीच होटल व्यवसायी महिला अफसर को गोली मारकर वहां से फरार हो गया. कहीं ना कहीं पुलिस की यह कार्यप्रणाली सुरक्षा पर सवालियां निशान खड़ा करती है. फिलहाल, पुलिस की चार टुकड़ियां आरोपी की खोज कर रही है.

    बिजली विभाग ने आरोपी को सस्पेंड किया
    कसौली हत्याकांड का आरोपी बिजली विभाग में कार्यरत है. फिलहाल, विभाग ने आरोपी को सस्पेंड कर दिया है. जानकारी के अनुसार, आरोपी पीएस टू डायरेक्टर सिविल के पद पर तैनात था. राज्य बिजली बोर्ड के एमडी जेपी काल्टा ने आरोप को सस्पेंड करने की पुष्टि है.

    ये है मामला
    एनजीटी और सुप्रीम कोर्ट ने कसौली के 13 होटलों के अवैध निर्माण गिराने के आदेश दिए थे. दो मई  डेडलाइन थी, जिसके मद्देनजर मंगलवार सुबह 38 सदस्यीय चार टीमें अवैध निर्माण गिराने कसौली पहुंची थी. कुछ होटलों पर कार्रवाई करने के बाद अस्सिटेंट टाउन कंट्री प्लानिंग, शैलबाला के नेतृत्व में प्रशासन की टीम दोपहर ढाई बजे मंढोधार में नारायणी गेस्ट हाउस पहुंची. इस दौरान होटल संचालक विजय ठाकुर ने हंगामा शुरू कर दिया.

    लाइसेंसी रिवालवर से दागीं तीन गोलियां
    महिला अधिकारी से बहस करने के बाद विजय ने आपा खोया और लाइसेंसी रिवॉल्वर से तीन गोलियां दाग दीं. एक गोली महिला अधिकारी के सिर पर लगी और दूसरी छाती पर और वह मौके पर ही ढेर हो गई. इसके अलावा, घटना में पीडब्ल्यूडी विभाग के एक कर्मी भी घायल हो गया. जिसे पीजीआई चंडीगढ़ रैफर किया गया है. पुलिस ने इस संबंध में चार टीमें गठित की हैं और आरोपी की तलाश की जा रही है.

    Tags: Himachal pradesh

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें