Home /News /himachal-pradesh /

लोकसभा चुनाव-19: हिमाचल की 4 सीटों का सियासी गणित

लोकसभा चुनाव-19: हिमाचल की 4 सीटों का सियासी गणित

हिमाचल में लोकसभा की चार सीेटें हैं.

हिमाचल में लोकसभा की चार सीेटें हैं.

कुल 45 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. प्रदेश में कुल 7730 पोलिंग स्टेशन स्थापित किए गए हैं.

    हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव के लिए 19 मई को वोटिंग होगी. सूबे में चार लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे. 53 लाख मतदाता 45 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे. मतदान प्रक्रिया के लिए पोलिंग पार्टियां शुक्रवार को अपने गंतव्यों की ओर रवाना हो गई हैं. कुल 45 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. प्रदेश में कुल 7730 पोलिंग स्टेशन स्थापित किए गए हैं. हिमाचल में 2014 लोकसभा चुनाव में चारों सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की थी. इस बार भी भाजपा चारों सीटों पर मेहनत कर रही है. खुद सीएम ने प्रचार की कमान संभाली और कुल 106 रैलियां की.

    मंडी सीट: मंडी हिमाचल की हॉट सीट है. यहां से मौजूदा सांसद रामस्वरूप सांसद है. उनके खिलाफ कांग्रेस से सुखराम के पोते आश्रय शर्मा प्रत्याशी हैं. मंडी में राजपूतों और ब्राह्मणों की बाहुलता है. इसी कारण यहां से बीते पांच चुनावों में ब्राह्मण और राजूपत प्रत्याशी ही जीतता रहा है. मंडी में मुख्य मुद्दे फोरलेन, उद्दोग ना होना, नशा है. मंडी प्रदेश की धार्मिक राजधानी भी है. इसे छोटी काशी भी कहा जाता है. 2009 में इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा था. मंडी सीट में 17 विधानसभा क्षेत्रों में 13 भाजपा और 3 कांग्रेस और एक आजाद के कब्जे में है.

    शिमला सीट: शिमला सीट आरक्षित सीट है. यहां से बीते दो चुनाव में भाजपा जीतती आई है. इस बार दो फौजियों में जंग है. कांग्रेस ने दो बार के सांसद धनी राम शांडिल और भाजपा ने सिरमौर के पचछाद से विधायक सुरेश कश्यप को टिकट दिया. इस सीट में दलित वोर्टर की संख्या ज्यादा है. गौरतलब है कि इस सीट में पड़ने वाले 17 विधानसभा क्षेत्रों में 8-8 पर भाजपा और कांग्रेस का कब्जा है और एक सीट सीपीआईएम के पास है. शिमला सीट के मुख्य मुद्दे सेब पर इंपोर्ट ड्यूटी, पानी की समस्या, पार्किंग समस्या, बंदरों का आतंक, सिरमौर के हाटी सुमदाय को पिछड़ेपन का दर्जा जैसे मुद्दे है.

    हमीरपुर सीट: हमीरपुर सीट से भाजपा के तीन बार के सांसद अनुराग ठाकुर का मुकाबला कांग्रेस के रामलाल से है. रामलाल जहां हार की हैट्रिक लगा चुके हैं, वहीं अनुराग जीत का चौका लगाने को आतुर हैं. हमीरपुर में रेल नेटवर्क का मुद्दा जोरशोर से चला आ रहा है. इसके अलावा, हेल्थ संस्थानों की कमी और नीचले इलाकों में सेब को लेकर नीति बनाने जैसे मुद्दे शामिल हैं. यहां पर ठाकुरों की संख्या ज्यादा है. पिछले तीन चुनाव से इस सीट पर भाजपा का कब्जा है.हमीरपुर की 17 विधानसभा सीटों में 10 भाजपा और 6 कांग्रेस और एक सीट आजाद के पास है.

    कांगड़ा सीट: कांगड़ा सीट सीट में जातीय समीकरण सबसे अहम भूमिका निभाते हैं. क्योंकि इस सीट में गद्दी और ओबीसी समुदाय के सबसे ज्यादा वोट हैं. करीब चार लाख गद्दी वोटर हैं. चंबा जिला इसी में आता है. यहां गद्दी वोटर ज्यादा है. वहीं, ओबीसी वोर्टर दूसरे नंबर पर हैं. भाजपा के किशन कपूर गद्दी समुदाय से आते हैं और कांग्रेस के प्रत्याशी पवन काजल ओबीसी वर्ग से हैं. पवन कांगड़ा से कांग्रेस विधायक हैं और किशन कपूर धर्मशाला से विधायक चुने गए हैं. कांगड़ा की आर्थिक धार्मिक टूरिज्म, टूरिज्म पर चलती है. यहां बेराजगारी और सेंट्रल यूनिवर्सिटी जैसे मुद्दे हावी रहा. सड़कें और हेल्थ सुविधाएं भी मुख्य समस्याएं हैं. यहां बीते दो चुनाव से भाजपा को जीत मिली है. 2009 से इस सीट पर भाजपा का कब्जा है.

    इतने प्रत्याशी हैं मैदान में
    हिमाचल में मंडी संसदीय क्षेत्र में सबसे अधिक 17 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. हमीरपुर और कांगड़ा संसदीय क्षेत्रों में 11-11 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. सबसे कम छह प्रत्याशी शिमला संसदीय क्षेत्र में हैं. छंटनी प्रक्रिया के दौरान नौ नामांकन रद कर दिए गए थे.

    कोटखाई गैंगरेप में थाना फूंकने का आरोपी रेप केस में गिरफ्तार

    VIDEO: चिट्टे के पैसे को लेकर ट्रक से कुचल डाला युवक, मौत

    शिमला: गले में चिकन का टुकड़ा फंसने से चौकीदार की मौत

    कुल्लू में चुनावी ड्यूटी में तैनात कर्मचारी की मौत

    कांगड़ा में हादसा, दो दिन खाई में गिरी रही कार,1 शख्स की मौत

    आपके शहर से (शिमला)

    शिमला
    शिमला

    Tags: Lok Sabha Election 2019, Shimla, Shimla S08p04

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर