लाइव टीवी

कुल्लू वायरल VIDEO: BJP विधायक सुरेंद्र शौरी ने दिया ‘आश्वासन’
Shimla News in Hindi

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 17, 2020, 5:28 PM IST
कुल्लू वायरल VIDEO: BJP विधायक सुरेंद्र शौरी ने दिया ‘आश्वासन’
कुल्लू में महिला को कंधों पर उठाकर अस्पताल ले जाया गया.

दरअसल गांव के लिए सड़क और बिजली उपलब्ध करवाना बहुत कठिन कार्य है, क्योंकि नेशनल पार्क होने के कारण यहां वाइल्ड लाइफ एक्ट भी लागू होता है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू (Kullu) जिले में सैंज घाटी की गाड़ापारली पंचायत के दुर्गम गांव शाक्टी में एक गर्भवती महिला (Pregnant Women) को महिलाओं ने कंधे पर अस्पताल पहुंचाने का वीडियो सामने आया है. न्यूज 18 ने इस मुद्दे को प्राथमिकता से उठाया. आजादी के 70 साल बाद भी सूबे के कई इलाके ऐसे हैं, जो सड़क सुविधा से महरूम हैं. न्यूज-18 की इस खबर का असर भी देखने को मिला है.

इसलिए नहीं बन पाई सडक: विधायक
बंजार विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुरेंद्र शौरी ने आश्वासन दिया है कि वन विभाग की मदद से गाड़ापारली पंचायत के तीन गांव शाक्टी, मरोड़ और शुगाड़ के लिए जीप योग्य सड़क बनाई जाएगी. राज्य योजना बोर्ड की बैठक में हिस्सा लेने के लिए शिमला आए विधायक सुरेंद्र शौरी से जब न्यूज 18 ने इस विषय को रखा तो उन्होंने कहा कि यह गाड़ापारली पंचायत का दुर्गम गांव हैं. साथ ही यह क्षेत्र ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में आता है. ऐसे में इस गांव के लिए लोक निर्माण विभाग या विधायक प्राथमिकता से सड़क बनाना मुश्किल है, लेकिन सरकार वन विभाग की मदद से सड़क बनाने की कोशिश करेगी.

गांव में बिजली भी नहीं



फिलहाल, बाहा गांव तक सड़क बनाने का काम चला है. उससे आगे करीब 18 किलोमीटर तक कोई सड़क नहीं है. विधायक ने यह भी माना कि इन गांवों में बिजली भी नहीं है. इस साल बिजली पहुंचाने के लिए टेंडर किए गए हैं.सूत्रों के मुताबिक सरकार ने इस गांव के लोगों को यहां से शिफ्ट करने का भी प्रयास किया था, लेकिन लोग नहीं मानें.

गर्भवती सुनीता देवी को सड़क के अभाव में कंधों पर अस्पताल पहुंचाया गया.
गर्भवती सुनीता देवी को सड़क के अभाव में कंधों पर अस्पताल पहुंचाया गया.


शिफ्टिंग का प्रयास असफल
सरकार सैंज में लोगों को जमीन देना चाहती थी. इन तीनों गांव की आबादी भी कम है. दरअसल गांव के लिए सड़क और बिजली उपलब्ध करवाना बहुत कठिन कार्य है, क्योंकि नेशनल पार्क होने के कारण यहां वाइल्ड लाइफ एक्ट भी लागू होता है. इसलिए इस क्षेत्र में किसी भी प्रकार का कंट्रक्शन वर्जित है. लेकिन फोरेस्ट रोड़ बनाने के लिए वन विभाग खुद अधिकृत है. बहरहाल उम्मीद की जा सकती है कि अब सरकार जागेगी और लोगों को कम से कम फोरेस्ट रोड बनाकर जरूर देगी.

ये भी पढ़ें: 8 घंटे 18 किमी: महिलाओं ने गर्भवती को कंधों पर उठाकर पहुंचाया अस्पताल

Weather Alert: शिमला में सामान्य से 8 डिग्री ज्‍यादा हुआ तापमान, तूफान के आसार

हिमाचल में स्वाइन फ्लू से पहली मौत, 6 माह के बच्चे ने PGI में तोड़ा दम

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 5:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर