कुल्लू थप्पड़ कांड: मुकेश अग्निहोत्री ने जांच पर उठाए सवाल, CM जयराम पर लगाया ये आरोप

कुल्लू थप्पड़ मामले में विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा है.

Scuffle Between Kullu SP Himachal CM Security Personnel: नेता प्रतिपक्ष  मुकेश अग्निहोत्री (Mukesh Agnihotri) ने कहा हिमाचल की जयराम सरकार कमजोर हो गई है तभी ऐसे हादसे हो रहे है. 

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कुल्लू (Kullu Slap Case) जिले में पुलिस अधिकारियों के बीच हुई मारपीट के मामले पर सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर ताबड़तोड़ हमले किए हैं. साथ ही शिमला ग्रामीण से कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने भी सरकार को आड़े हाथों लिया है. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री (Mukesh Agnihotr) ने कहा कि इस घटना ने प्रदेश को पूरे देश के सामने शर्मसार किया है और कलंकित किया है. उन्होंने कहा कि अब जाहिर हो गया कि किस तरह सरकार व्यवस्था पर नियंत्रण खो चुकी है. केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री के सामने एक ऐसी घटना हुई जिसमें पुलिस ने तमाम मर्यादाएं तार-तार कर दीं.

अग्निहोत्री ने कहा कि ऐसा तब होता है जब सरकार कमजोर हो वरना किन इस तरह की जुर्रत कर सकता था और ऐसी घटना जय राम सरकार के राम राज में ही हो सकती हैं. उन्होंने कहा कि सरकार की नाक कटी है और लीपापोती के लिए जांच की जा रही है. साथ ही आरोप लगाया कि इस पूरी घटना की पृष्ठभूमि में सीएम हैं. मुख्यमंत्री नहीं चाहते थे कि फोरलेन प्रभावित केंद्रीय मंत्री से मिले और संभवत: उन्होंने ये निर्देश भी दे रखे थे. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि फोरलेन प्रभावितों की नितिन गडकरी से मुलाकात सीएम के साथ साथ सीएम सिक्योरिटी को भी नागवार गुजरी, क्योंकि स्थानीय लोगों ने केंद्रीय मंत्री के सामने सीएम और स्थानीय मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर की शिकायत लगवाई. साथ ही कहा कि नितिन गडकरी के लिए जो नारे लगे वो भी सीएम को सही नहीं लगे. वो चाह रहे थे कि उनके लिए नारे लगते, लेकिन वहां नारे एसपी के लिए लगे, जिसने आग में घी का काम किया.



नेता प्रतिपक्ष ने लगाया बड़ा आरोप

मुकेश अग्निहोत्री ने आगे कहा कि सीएम सिक्योरिटी और एसपी के बीच टकराव सीएम के दौरे की शुरूआत से ही चल रहा था. सीएम सिक्योरिटी अंहकार से भर गई है. वो खुद को सिस्टम से ऊपर समझती है और इसी के चलते एक पीएसओ आईपीएस को लात मार सकता है. साथ ही तंज कसते हुए कहा कि ये घटना बताती है कि सीएम के साथ चलने वाले वाले लोगों में कितना अहंकार भर गया.
अग्निहोत्री ने कहा कि मंत्री का मुख्य सचिव से टकराव हो गया, चीफ सेकरेट्री को फटकार रहा है. मंत्री जनमंच में फटकार रहे हैं, कार्यक्रमों में फटकार रहे हैं. सीएम सिक्योरिटी से लेकर मंत्रियों तक सब अनियंत्रित हो गए हैं. पूरा सिस्टम ऑउट ऑफ कंट्रोल हो गया है,ये सब सही नहीं है.

दूसरी ओर विधायक विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि खुलेआम पुलिस अधिकारियों में हुई हाथापाई होना बेहद गंभीर मामला है. उन्होंने कहा कि एक केंद्रीय मंत्री के आगमन के दौरान इस तरह की घटना होना वीआईपी सुरक्षा पर भी एक बहुत बड़ा सवाल खड़ा होता है. विक्रमादित्य सिंह ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा है कि प्रदेश में पहली बार कानून के रखवालों का इस प्रकार एक दूसरे को खुले में लात-घूंसे मारना हिमाचल जैसे शांतिप्रिय राज्य को शर्मसार कर गया है. इससे साफ हो गया है कि प्रदेश में कानून और शासकीय व्यवस्था किस ओर जा रही है. इस मामले पर सख्त कदम उठाने की मांग भी की है.
विक्रमादित्य ने मंत्रिमंडल की बैठक में मंत्री द्वारा मुख्य सचिव से कथित तौर पर दुर्व्यवहार की घटना की भी कड़ी आलोचना की है. उन्होंने कहा कि इस प्रकार का व्यवहार किसी भी अधिकारी के मनोबल पर विपरित असर डाल सकता है. मुख्यमंत्री के समक्ष मुख्य सचिव के साथ इस प्रकार का दुर्व्यवहार चिंता का विषय है. उन्होंने भाजपा नेताओं पर आरोप लगाया है कि वे प्रदेश में अव्यवस्था फैला रहे हैं. अधिकारियों पर दबाव बना कर उन्हें अपनी कर्तव्य निष्ठा से दूर किया जा रहा है, यही वजह है कि आज प्रदेश में सरकार और ब्यूरोक्रेसी में कोई तालमेल नहीं रह गया है और दोनों में दूरियां बढ़ती जा रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.