हिमाचल में लैंडस्लाइड, दरकी पहाड़ी, 2 महिलाओं की मौत, 5 घायल

शिमला के नेरवा में भस्खलन से दो महिलाओं की मौत.

Landslide in Nerva: शिमला जिले के नेरवा में पहाड़ी दरकने से मलबे के नीचे ये लोग दब गए. इनमें 2 महिलाओं की मौत हो गई, जबकि 5 लोग घायल हो गए.

  • Share this:
    पंकज शर्मा

    शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से बड़ी खबर है. यहां बारिश के बाद लैंडस्लाइड के चलते दो महिलाओं की मौत और पांच अन्य घायल हो गए हैं. शिमला से 100 किमी दूर यह हादसा हुआ है. फिलहाल, घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. पुलिस और प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंची है.

    जानकारी के अनुसार, शिमला जिले के नेरवा में पहाड़ी दरकने से मलबे के नीचे ये लोग दब गए. इनमें 2 महिलाओं की मौत हो गई, जबकि 5 लोग घायल हो गए.

    मौके पर हादसे के बाद शव के पास बैठे लोग.


    जानकारी के अनुसार, नेरवा से करीब 10 किलोमीटर दुर बजाथल-घुंटाड़ी सड़क मार्ग पर सिलोड़ी कैंची में पीडब्लूडी विभाग के एक्सईएन और सहायक अभियंता के आने की सूचना के बाद सड़क की खस्ताहालत का दुखड़ा सुनाने के लिए सैकड़ों ग्रामीण पैदल अधिकारियों से मिलने जा रहे थे. अचानक सत्कालड़ी नाला नामक स्थान पर पहाड़ी से चट्टाने और मलबा गिर गया. कुछ लोगों ने भाग कर अपनी जान बचाई, मगर 7 लोग मलबे की चपेट में आ गए.



    स्थानीय लोगों ने राहत और बचाव कार्य चलाकर मलवे में दबे लोगों को बाहर निकाला गया. हादसे में 1 महिला ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था, जबकि 1 अन्य महिला को अस्पताल पहुंचाने पर चिकित्सकों ने मृत घोषित किया. अन्य 5 घायलों को सिविल अस्पताल नेरवा में प्राथमिक उपचार के बाद आगामी ईलाज के लिए आईजीएमसी शिमला रेफर किया गया है.

    किसकी हुई मौत, कौन हुआ घायल

    मृतकों की शिनाख्त कमला देवी पत्नी गोपीचंद उर्म 45 वर्ष गांव बावड़ा डाकघर व तहसील नेरवा जिला शिमला, शुक्री देवी पत्नी स्व० पन्नालाल उम्र 80 वर्ष गांव बावडा़ डाकघर व तहसील नेरूवा जिला शिमला के रूप में की गई है. घायलों की पहचान मेला राम शर्मा पुत्र वीर सिंह गांव बसवा उम्र 34 वर्ष, पीताम्बर पुत्र निका राम उम्र 25 वर्ष, सीमा देवी पत्नी दुला राम उम्र 35 वर्ष, अत्तरो देवी पत्नी दौलत राम उम्र 50 वर्ष, रमेश चंद पुत्र ध्यानु राम गांव बावड़ा उम्र 32 वर्ष सभी निवासी गांव बावड़ा डाकघर व तहसील नेरवा के रूप में हुई है.

    क्या बोले प्रधान

    ग्राम पंचायत 'गढ़ा' के प्रधान दिनेश घुंटा ने बताया कि यदि घुंटाडी-बजाथल सड़क की स्थिति सही होती तो आज दो महिलाओं की जान बच सकती थी. सड़क की सही स्थिति ना होने के कारण इस सड़क पर गाड़ीयों की आवाजाही मुश्किल रहती है, जिस कारण घुंटाडी व बजाथल के लोगों को सड़क पर भी अक्सर पैदल ही चलना पड़ता है. आज भी क्षेत्र के सैकड़ों लोग पीडब्लूडी विभाग के एक्सईएन और एसडीओ को सड़क की खस्ताहालत से अवगत करवाने के लिए पैदल जा रहे थे कि अचानक ये दुःखद हादसा पेश आ गया. पुलिस थाना नेरवा के प्रभारी राजेन्द्र शर्मा ने हादसे की पुष्टि करते हुए बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए जाएंगे. पुलिस मामला दर्ज करके जांच कर रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.