अपना शहर चुनें

States

IGMC अस्पताल में लंगर पर दंगल: सर्बजीत बॉबी को मिला पूर्व CM वीरभद्र सिंह का साथ

सर्बजीत सिंह बॉबी शिमला में कैंसर अस्पताल में फ्री में लंगर चलाते हैं.
सर्बजीत सिंह बॉबी शिमला में कैंसर अस्पताल में फ्री में लंगर चलाते हैं.

Langar at IGMC cancer Hospital Issue: पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की ओर से जारी बयान में सरबजीत सिंह की मांगों को जायज ठहराया है. वीरभद्र सिंह ने आईजीएमसी प्रशासन से कहा है कि अस्पताल को राजनीति का अखाड़ा न बनने दें.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी (IGMC) के प्रशासन पर समाजसेवी सरबजीत सिंह (Sarbjeet Bobby) ऊर्फ बॉबी ने गंभीर आरोप लगाए हैं. IGMC के कैंसर अस्पताल में मुफ्त लंगर लगाने वाले सरबजीत सिंह ऊर्फ बॉबी ने आरोप लगाया है कि उनके लंगर को बंद करने की कोशिश की जा रही है और इसके लिए राजनीति की जा रही है. मरीजों के लिए बनाए गए रैन बसेरा को गुपचुप तरीके से टेंडर कॉल कर अपने चहेते को देने के आरोप लगाए हैं.

सरबजीत इसके विरोध में मंगलवार को रिज मैदान (Ridge Ground) पर अटल बिहारी वाजपेयी की मूर्ति के नीचे धरने पर भी बैठे थे. सरबजीत सिंह ने मांग की है कि इस टेंडर को रद्द किया जाए और फिर से टेंडर प्रकिया शुरू की जाए. सरबजीत सिंह को अब पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का साथ मिला है. वीरभद्र सिंह ने सीएम जयराम ठाकुर को मामले को गंभीरता से लेने के लिए कहा है और टेंडर को रद्द करने को कहा है.

ये बोले वीरभद्र सिंह



पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की ओर से जारी बयान में सरबजीत सिंह की मांगों को जायज ठहराया है. वीरभद्र सिंह ने आईजीएमसी प्रशासन से कहा है कि अस्पताल को राजनीति का अखाड़ा न बनने दें. उन्होंने सरबजीत सिंह की सेवाओं की सराहना करते हुए कहा है उनका सेवा भाव दूसरों के लिए भी प्रेरणास्रोत हैं. उन्होंने  हैरानी जताई है कि 6 साल पूर्व आबंटित किए गए रैनबसेरे को आखिर कैसे गुपचुप तरीके टेंडर कर किसी और को आबंटित किया जा रहा है.  उन्होंने इस फैसले को सरबजीत सिंह के साथ अन्याय करार दिया है. साथ ही कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने आईजीएमसी के कैंसर अस्पताल में रोगियों और तीमारदारों की निशुल्क सेवा भाव को देखते हुए पूरे कायदे-कानून के तहत सरबजीत सिंह को रैन बसेरा आबंटित किया था. सरबजीत सिंह की सेवा को देखते हुए देश के राष्ट्रपति ने भी इन्हें सम्मानित किया है, ऐसे में एक सच्चे समाजसेवी के साथ इस प्रकार का अन्याय उनका समाजसेवा के प्रति अपमान है. वीरभद्र ने कहा है कि टेंडर को तुरंत रद्द किया जाए और उनके अनशन को समाप्त करवाया जाए.
23 जनवरी को कैंसर पीड़ितों के साथ धरना

सरबजीत सिंह ऊर्फ बॉबी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस बाबत एक बार फिर से कैबिनेट मंत्री सुरेश भारद्वाज से बुधवार को मुलाकात की है और अपनी मांग रखी है. बॉबी ने कहा कि अगर मांग पूरी नहीं की गई तो 23 जनवरी को रिज मैदान पर कैंसर पीड़ितों के साथ धरने पर बैठेंगे.

अस्पताल प्रशासन ने साधी चुप्पी

इस मामले पर अस्पताल प्रशासन ने चुप्पी साध ली है. हालांकि मंगलवार को प्रशासन की तरफ से कहा गया था कि समय आने पर दस्तावेजों के साथ सभी आरोपों का जबाव दिया जाएगा लेकिन अब तक कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आई है.



रैन बसेरा पर रार

अलमाईटी ब्लेसिंग्स संस्था के अध्यक्ष सरबजीत सिंह का कहना है कि पूर्व सरकार की मदद से 2017 में उन्होंने कैंसर मरीजों के लिए एक रैन बसेरा बनाने का कार्य शुरू किया था,जो काफी प्रयासों और मेहनत के बाद 2019 में बनकर तैयार हुआ था. लोक निर्माण विभाग ने इसका टेंडर करवाया था. वर्तमान सरकार के कुछ लोगों को ये कामयाबी पसंद नहीं आई और एक चक्रव्यूह रचकर ये रैन बसेरा किसी और दे दिया गया. सरबजीत ने आरोप लगाया कि गुपचुप तरीके से इसके लिए टेंडर करवाया गया था. उन्होंने कहा कि रैन बसेरे के साथ साथ उन्हें कई कार्यों की अनुमति दी गई है, जिसमें खाना खिलाना भी शामिल हैं. एक ही स्थान पर दो लंगर जायज नहीं हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें किसी भी पार्टी से कोई मतलब नहीं है लेकिन फिर भी उनके साथ राजनीति की जा रही है. अस्पताल को राजनीति का अड्डा बनाया जा रहा है.

एक बड़े अधिकारी पर लगाए ये आरोप

सरबजीत सिंह ने इसके लिए अस्पताल में एक बड़े ओहदे पर तैनात डॉक्टर को जिम्मेदार ठहराया, लेकिन उनका नाम नहीं लिया. सरबजीत ने कहा कि वो आने वाले समय में राजनीति में उतरना चाहते हैं और अपने राजनीतिक गुरूओं को खुश करने के लिए ऐसा किया जा रहा है. अपनी मांगो को लेकर कई बार प्रशासन से मिले लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. उन्होंने कहा कि रैन बसेरे को मरीजों के लिए ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज