Leh-Manali Highway Closed: 7 दिन बाद खुला लेह-मनाली NH, बारलाचा में हिमस्खलन से फिर हुआ बंद

केलांग के दारचा तक ही वाहनों को जाने दिया जा रहा है.

केलांग के दारचा तक ही वाहनों को जाने दिया जा रहा है.

Leh Manali Highway Closed due to Avalanche: बारलाचा के पास हिमस्खलन के चलते हाईवे को बंद कर दिया गया है. इससे पहले, मंगलवार शाम को यह मार्ग खोल दिया गया था. टूरिस्ट और आम लोगों के लिए नहीं खुला था. लेकिन चंद घंटों में ही बंद हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 9:37 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति (Lahaul Spiti) में बीते सात दिन से बंद लेह मनाली हाईवे को बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन ने बहाल कर दिया है. मंगलवार शाम को बीआरओ (BRO) की टीम ने दारचा से आगे हाईवे पर अटी पड़ी बर्फ (snowfall) को कड़ी मेहनत के बाद हटा दिया और मार्ग को बहाल कर दिया. लेकिन, अब फिर से हाईवे (Highway) बंद हो गया है. सूरजताल के पास हिमस्खलन हुआ है. ऐसे में बुधवार शाम तक हाईवे के बहाल होने की उम्मीद है. बीआरओ की टीमें बहाली के लिए लगी हुई हैं. फिलहाल, दारचा से आगे किसी वाहन को जाने नहीं दिया जा रहा है.  इससे पहले, मंगलवार शाम को यह मार्ग खोल दिया गया था. टूरिस्ट और आम लोगों के लिए नहीं खुला था. लेकिन चंद घंटों में ही बंद हो गया.

लाहौल पुलिस की ओर से दी गई सूचना.


सात दिन से फंसे हैं 400 लोग

लाहौल स्पीति पुलिस के अनुसार, मंगलवार शाम को जब हाईवे खुला था तो पुलिस का कहना था कि बुधवार सुबह लेह (लद्दाख) जाने वाले वाहनों को अनुमति दी जाएगी. सभी लद्दाख जाने वाले वाहन टनल से ही लौटेंगे. इसके अलावा, पुलिस का कहना था कि फिलहाल, बाइकों को मार्ग पर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी. इसके अलावा, ओवरलोड ट्रक और पर्यटक वाहनों को मार्ग पर यात्रा करने की अनुमति नहीं रहेगी. लेकिन अब फिर से हाईवे बंद हो गया. बता दें कि इस मार्ग पर अब भी 400 लोग फंसे हुए हैं. ये टूरिस्ट और वाहन चालक हैं, जो लेह जा रहे है. प्रशासन की ओर से इनके खाने के बंदोबस्त किए गए हैं.
मौसम का येलो अलर्ट

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने बुधवार को मैदानी जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में मौसम साफ रहने की संभावना जताई है. मध्य पर्वतीय क्षेत्रों शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों किन्नौर और लाहौल स्पीति में बुधवार को बारिश-बर्फबारी के आसार हैं. 16 और 17 अप्रैल को मैदानी और मध्य पर्वतीय दस जिलों में बारिश, अंधड़ और ओलावृष्टि का येलो अलर्ट जारी किया गया है. इस दौरान कई क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की चेतावनी जारी की गई है. 18 अप्रैल तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब बना रहने के आसार जताए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज