हिमाचल: इस BJP प्रत्याशी का मत प्रतिशत देश में सबसे ज्‍यादा, मोदी-शाह से भी आगे निकले

हमीरपुर से अनुराग ठाकुर और मंडी से राम स्वरूप शर्मा ने क्रमश: 68.78 फीसदी और 68.75 प्रतिशत मत हासिल किए. गौरतलब है कि वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी की को 63.62 फीसदी वोट मिले केरल के वायनाड सीट से राहुल गांधी को 64.67 प्रतिशत वोट आए.

Vinod Kumar Katwal | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 24, 2019, 12:41 PM IST
हिमाचल: इस BJP प्रत्याशी का मत प्रतिशत देश में सबसे ज्‍यादा, मोदी-शाह से भी आगे निकले
जीत के बाद हिमाचल के कांगड़ा से जीते भाजपा प्रत्याशी किशन कपूर.
Vinod Kumar Katwal | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 24, 2019, 12:41 PM IST
हिमाचल प्रदेश में बीते 42 साल के लोकसभा चुनाव के इतिहास में इस बार सबसे अधिक 73 फीसदी वोटिंग हुई. इसमें 70 फीसदी वोट भाजपा को पड़े और उसने लगातार दूसरी बार प्रदेश में कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया. हिमाचल प्रदेश में भाजपा के चारों प्रत्याशियों ने कांग्रेस और अन्‍य प्रतिद्वंदियों को साढ़े तीन लाख से ज्यादा मतों से मात दी.

हिमाचल में सबसे ज्यादा वोट के अंतर से जीतने वाले कांगड़ा संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी किशन कपूर ने देशभर में सबसे अधिक मत प्रतिशत से जीत दर्ज की और रिकॉर्ड बनाया. मोदी लहर में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे कपूर ने कुल पोल हुए वोटों में से 72.02 प्रतिशत मत हासिल किए.



जीत के बाद किशन कपूर को प्रमाण पत्र देते हुए कांगड़ा के डीसी.


गौरतलब है कि कांगड़ा संसदीय क्षेत्र में 14 लाख 27 हजार 338 वोटों में 10 लाख 6 हजार 989 वोट कास्ट हुए थे. इनमें किशन कपूर को 7 लाख 25 हजार 218 वोट पड़े. उनके विरोधी पवन काजल को 2,47,595 मत हासिल हुए. ऐसे में देशभर में उनका विजयी प्रतिशत सबसे अधिक रहा. कपूर समेत चारों भाजपा प्रत्याशियों को प्रधानमंत्री मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी ज्यादा मत प्रतिशत मिला.

हमीरपुर से अनुराग ठाकुर और मंडी से राम स्वरूप शर्मा ने क्रमश: 68.78 फीसदी और 68.75 प्रतिशत मत हासिल किए. गौरतलब है कि वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी को 63.62 फीसदी वोट मिले और केरल के वायनाड सीट से राहुल गांधी को 64.67 प्रतिशत वोट आए.

जीत के बाद सर्मथकों से घिरे किशन कपूर.


उधर, हिमाचल की राजधानी शिमला सीट से भाजप के सुरेश कश्यप को 66.35 प्रतिशत वोट मिले और उन्होंने कांग्रेस के दो बार के सांसद रहे धनीराम शांडिल को हराया. बता दें कि महाराष्ट्र की मुंबई उत्तर सीट से भाजपा प्रत्याशी गोपाल शेट्टी ने 71.46 प्रतिशत और हरियाणा के करनाल से प्रत्याशी संजय भाटिया ने 70.06 प्रतिशत और गुजरात के गांधीनगर से अमित शाह ने 69.77 प्रतिशत मत लेकर जीत हासिल की है.
Loading...

कौन हैं किशन कपूर
किशन कपूर मौजूदा हिमाचल विधानसभा चुनाव में जीत के बाद पांचवीं बार विधानसभा पहुंचे. साल 1990 में किशन कपूर ने पहली बार विधानसभा चुनाव जीता था. इसके बाद वह 1993, 1998 और 2007 में विधायक चुने गए. वर्ष 1998 में भाजपा सरकार में तीन साल तक मंत्री रहे. इसके बाद 2007 में धूमल सरकार में परिवहन और उद्योग मंत्री बनाए गए. वह कांगड़ा के धर्मशाला से मौजूदा विधायक है. गद्दी समुदाय से आते हैं और कांगड़ा में चार लाख गद्दी वोटर हैं.

हिमाचल में भाजपा की प्रचंड जीत
गौरतलब है कि हिमाचल में भाजपा को चारों सीटों पर जीत हासिल हुई है. कांगड़ा से भाजपा के उम्मीदवार किशन कपूर ने कांग्रेस के पवन काजल को 4,77,623 मतों से पराजित किया. किशन कपूर को 7,25,218 और पवन काजल को 2,47,595 मत हासिल हुए. शिमला से भाजपा के उम्मीदवार सुरेश कश्यप ने कांग्रेस के धनी राम शांडिल को 3,27,515 मतों से पराजित किया. सुरेश कश्यप को 6,06,183, जबकि धनी राम शांडिल को 2,78,668 मत प्राप्त हुए. मंडी से भाजपा के उम्मीदवार राम स्वरूप शर्मा ने कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा को 4,05,459 मतों से पराजित किया. राम स्वरूप शर्मा को 6,47,189, जबकि आश्रय शर्मा ने 241730 मत प्राप्त किए. वहीं हमीरपुर से अनुराग ठाकुर को 6,68,812 वोट मिले और उन्होंने रामलाल ठाकुर को हराया. रामलाल को 2.81 लाख वोट मिले.

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: हिमाचल में BJP की 4 सीटों पर धमाकेदार जीत

लोस चुनाव: इन 6 वजहों से अनुराग ठाकुर ने लगाया जीत का ‘चौका’

दादा सुखराम को रिक़ॉर्ड जीत मिली थी, पोते की रिकॉर्ड हार

मंडी से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा की हार के पांच कारण!

55 साल के सियासी जीवन में ऐसी हार कभी नहीं देखी-वीरभद्र सिंह
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...