लोकसभा चुनाव 2019: हिमाचल में 40 साल के सियासी इतिहास के ये रिकॉर्ड टूटे
Shimla News in Hindi

लोकसभा चुनाव 2019: हिमाचल में 40 साल के सियासी इतिहास के ये रिकॉर्ड टूटे
हिमाचल में चारों सीटों पर भाजपा चित्त.

हिमाचल की सभी विधानसभा सीटों पर भाजपा ने क्लीन स्वीप किया है. प्रदेश का एक भी विधानसभा क्षेत्र नहीं है, जहां कांग्रेस को लीड मिली हो. 68 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस के पास 21 विधायक हैं, वहां से भी भाजपा को लीड नहीं मिली.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों ने कई नए आयाम स्थापित किए हैं. करीब चालीस साल पुराने रिकॉर्ड ध्वस्त हो गए. शुरूआत हुई लोकसभा चुनाव के लिए हुई वोटिंग से. करीब 73 फीसदी वोटिंग हुई और जो 42 साल में सबसे अधिक थी. इसे बाद परिणाम में तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं

हिमाचल की सभी विधानसभा सीटों पर भाजपा ने क्लीन स्वीप किया है. प्रदेश का एक भी विधानसभा क्षेत्र नहीं है, जहां कांग्रेस को लीड मिली हो. 68 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस के पास 21 विधायक हैं, वहां से भी भाजपा को लीड नहीं मिली.

हिमाचल में पहली बार सभी भाजपा सांसद तीन लाख से ऊपर मतों से जीते हैं, जोकि अपने आप में एक रिकॉर्ड है. इससे पहले, ऐसा कभी नहीं हुआ था. मत प्रतिशत लेने में कांगड़ा के किशन कपूर ने देशभर में इतिहास रचा है. उन्हें कांगड़ा से कुल पोल हुए मतों का 70 फीसदी हासिल हुआ. 1980 और 1984 में भाजपा लगातार दो चुनावों में कांग्रेस के मुकाबले चारों सीटें जीती थी. अब 2014 और 2019 में भाजपा ने कांग्रेस का प्रदेश से सूपड़ा साफ कर दिया.



मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय ने हारकर नया रिकॉर्ड बनाया है. 1996 लोकसभा चुनाव में आश्रय के दादा पंडित सुखराम ने अदन सिंह को 1,53223 वोटों से हराया था. सुखराम ठाकुर को 1996 में 3,28,186 मत मिले थे, वहीं अदन सिंह को 1,74,963 मत पड़े थे. वहीं, इस बार भाजपा के रामस्वरूप शर्मा ढाई लाख से अधिक मतों से आश्रय शर्मा को मात दे रहे हैं.
हिमाचल में चारों सीटें भाजपा को
गौरतलब है कि हिमाचल में भाजपा को चारों सीटों पर जीत हासिल हुई है.कांगड़ा से भाजपाके उम्मीदवार किशन कपूर ने कांग्रेस के पवन काजल को 4,77,623 मतों से पराजित किया. किशन कपूर को 7,25,218 और पवन काजल को 2,47,595 मत हासिल हुए. शिमला से भाजपा के उम्मीदवार सुरेश कश्यप ने कांग्रेस के धनी राम शांडिल को 3,27,515 मतों से पराजित किया.

सुरेश कश्यप को 6,06,183, जबकि धनी राम शांडिल को 2,78,668 मत प्राप्त हुए. मंडी से भाजपा के उम्मीदवार राम स्वरूप शर्मा ने कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा को 4,05,459 मतों से पराजित किया. राम स्वरूप शर्मा को 6,47,189, जबकि आश्रय शर्मा ने 241730 मत प्राप्त किए. वहीं हमीरपुर से अनुराग ठाकुर को 6,68,812 वोट मिले और उन्होंने रामलाल ठाकुर को हराया. रामलाल को 2.81 लाख वोट मिले.

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: हिमाचल में BJP की 4 सीटों पर धमाकेदार जीत

लोस चुनाव: इन 6 वजहों से अनुराग ठाकुर ने लगाया जीत का ‘चौका’

दादा सुखराम को रिक़ॉर्ड जीत मिली थी, पोते की रिकॉर्ड हार

मंडी से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा की हार के पांच कारण!

55 साल के सियासी जीवन में ऐसी हार कभी नहीं देखी-वीरभद्र सिंह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज