Home /News /himachal-pradesh /

maharaja ranjit singh era french army generals received himachali thaal topi shawl from anurag thakur during his visit to france nodnc

अनुराग ठाकुर ने चंबा राजकुमारी के वंशजों को भेंट की हिमाचली टोपी, थाल और शॉल

अनुराग ठाकुर का कहना था कि सेंट ट्रोपेज से भारतीय सम्पर्क काफी पुराना है.

अनुराग ठाकुर का कहना था कि सेंट ट्रोपेज से भारतीय सम्पर्क काफी पुराना है.

Himachal News: अनुराग ठाकुर ने जनरल जीन फ्रेंकोइस एलार्ड और उनकी पत्नी राजकुमारी बन्नू पान देई के वंशजों को हिमाचल प्रदेश की संस्कृति से रूबरू करवाया. अनुराग ठाकुर ने इन्हें हिमाचल की टोपी और शॉल पहनाई.

हाइलाइट्स

पंजाब में रहते हुए एलार्ड को चंबा की राजकुमारी से प्रेम हो गया था.

शिमला. फ्रांस में सेंट ट्रोपेज में एलार्ड स्क्वायर की विजिट के दौरान केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने जनरल जीन फ्रेंकोइस एलार्ड और उनकी पत्नी राजकुमारी बन्नू पान देई के वंशजों को हिमाचल प्रदेश की संस्कृति से रूबरू करवाया. अनुराग ठाकुर ने इन्हें हिमाचल की टोपी और शॉल पहनाई. साथ ही ​हिमाचल का पारम्परिक थाल भी गिफ्ट किया. इस अलग गिफ्ट को देखकर वे लोग खासे खुश नजर आए. इससे पहले सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने फ्रांस के सेंट ट्रोपेज बंदरगाह में महाराजा रणजीत सिंह, चंबा की राजकुमारी बन्नू पान देई और उनके पति जनरल जीन फ्रेंकोइस एलार्ड को बुधवार को श्रद्धांजलि दी थी.

कौन है राजकुमारी बन्नू पान देई
राजकुमारी बन्नू पान देई का जन्म चंबा, हिमाचल प्रदेश में हुआ था. यही कारण है कि उनका और उनके परिवार का हिमाचल से गहरा लगाव है. इस मौके पर अनुराग ठाकुर का कहना था कि सेंट ट्रोपेज से भारतीय सम्पर्क काफी पुराना है और चार पीढ़ियों के बाद भी यह रिश्ता बना हुआ है. सेंट ट्रोपेज में राजकुमारी के परिवार का बहुत सम्मान किया जाता है. राजकुमारी ने अपनी भारतीय जड़ों को यहां संरक्षित किया हुआ है. बता दें कि फ्रांस के कान फिल्म समारोह में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का अनुराग ठाकुर ने नेतृत्व किया था. गौरतलब है कि राजकुमारी बन्नू पान देई का हिमाचल से कनेक्शन होने के कारण ही उनके व उनके परिवार को हिमाचली तोहफे ​दिए गए.

chamba news

राजकुमारी बन्नू पान देई का जन्म चंबा, हिमाचल प्रदेश में हुआ था.

1984 में हुआ था निधन
जनरल एलार्ड ने महाराजा रणजीत सिंह की सेना में सेवाएं दी थीं और महाराजा की सेना की कमान संभाली थीं. महाराजा की सेना में ‘फौज-ए-खास’ गठित करने का श्रेय एलार्ड को जाता है. पंजाब में रहते हुए एलार्ड को चंबा की राजकुमारी से प्रेम हो गया था और वे बन्नू पान देई से विवाह के बाद उनके साथ 1834 में सेंट ट्रोपेज आ गए थे. बाद में वह पंजाब लौट गए और संक्षिप्त बीमारी के बाद 1839 में उनका निधन हो गया था. बन्नू पान देई ने ईसाई धर्म अपना लिया था और वह सेंट ट्रोपेज में एलार्ड द्वारा बनाए गए  बड़े घर में रहती थीं. उनका 1884 में निधन हो गया था. भारत-फ्रांस के मजबूत होते संबंधों के प्रतीक के रूप में 2016 में सेंट ट्रोपेज में महाराजा और बन्नू पान देई की प्रतिमाओं का अनावरण किया गया था.

Tags: Anurag thakur, Himachal news, Shimla News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर