Home /News /himachal-pradesh /

माकपा ने प्रदेश पुलिस मुख्यालय का दरवाजा खटखटाया

माकपा ने प्रदेश पुलिस मुख्यालय का दरवाजा खटखटाया

शिमला में माकपा प्रतिनिधमंडल ने पार्टी कार्यालय पर हुए पुलिस हमले को डीजीपी संजय कुमार के समक्ष रखा। माकपा नेताओं ने डीजीपी को ज्ञापन सोंपा और पार्टी कार्यालय पर पुलिस हमले की जांच की मांग की।

शिमला में माकपा प्रतिनिधमंडल ने पार्टी कार्यालय पर हुए पुलिस हमले को डीजीपी संजय कुमार के समक्ष रखा। माकपा नेताओं ने डीजीपी को ज्ञापन सोंपा और पार्टी कार्यालय पर पुलिस हमले की जांच की मांग की।

शिमला में माकपा प्रतिनिधमंडल ने पार्टी कार्यालय पर हुए पुलिस हमले को डीजीपी संजय कुमार के समक्ष रखा। माकपा नेताओं ने डीजीपी को ज्ञापन सोंपा और पार्टी कार्यालय पर पुलिस हमले की जांच की मांग की।

शिमला में माकपा प्रतिनिधमंडल ने पार्टी कार्यालय पर हुए पुलिस हमले को डीजीपी संजय कुमार के समक्ष रखा। माकपा नेताओं ने डीजीपी को ज्ञापन सोंपा और पार्टी कार्यालय पर पुलिस हमले की जांच की मांग की।

माकपा ने कहा कि पार्टी कार्यालय पर हुआ हमला लोकतंत्र पर हमला है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाऐगा। माकपा का मानना है कि पार्टी कार्यालय पर दबिश नहीं दी जा सकती। ऐसा कोई गुनाह कार्यालय कर्मचारियों ने नही किया था।

लेकिन डीजीपी संजय कुमार के यह कहने पर की पुलिस ने कार्रवाई कानून के दायरे में की है। माकपा नेता भड़क गए और कहा कि इतने ऊंचे ओहदे पर बैठे अधिकारी को ऐसा गैर जिम्मेदाराना बयान देना शोभा नहीं देता। डीजीपी के बयान से खफा माकपा नेताओं ने सीएम से ऐसे अधिकारियों को सेवानिवृति देने की मांग कर डाली।

टिंकेद्र सिंह पंवर ने कहा कि प्रदेश के पुलिस मुख्या को ज्ञापन सोंपा गया और ज्ञापन के माध्यम से पार्टी कार्यालय पर हमले केजिम्मेवार पुलिस अधिकारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है। माकपा ने पुलिस की कार्रवाई को बच्चकानी और पागलपन जेसी हरकत करार दी।

वहीं माकपा नेता एवं शिमला मेयर संजय चौहान ने डीजीपी के बयान पर हैरानी जताई और कहा की सीएम वीरभद्र सिंह को ऐसे अधिकारियों को सेवानिवृति देनी चाहिए। संजय चौहान ने यह मांग डीजीपी के उस बयान पर दी जिस में डीजीपी संजय कुमार ने कहा कि कार्यालय पर कार्रवाई कानून के दायरे में की है।

प्रदेश के पुलिस मुख्या के साथ काफी मत्थापच्ची के बाद माकपा कार्यालय पर हुए हमले की जांच की बात स्वीकारी और जिम्मेवार पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर