मंत्री पर आरोप: मंडी श्रम विभाग दफ्तर का सारा स्टाफ एक साथ ट्रांसफर, उठे सवाल

हिमाचल प्रदेश का मंडी शहर.

हिमाचल प्रदेश का मंडी शहर.

Transfer Issue: एक साल पहले 9 जनवरी 2020 मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के बेटे रजत ठाकुर की श्रम दफ्तर में महिला कर्मी से बहसबाजी हुई थी. इसका एक वीडियो भी सामने आया था. यह विवाद काफी चर्चा में रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 9:35 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में श्रम विभाग दफ्तर (Labor Office) मंडी का सारा स्टाफ एक साथ बदल दिया गया है. जिला श्रम अधिकारी सहित पूरे स्टाफ का तबादला होने से हड़कंप मचा हुआ है. चर्चा है कि जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह (Mahender Singh) नाराजगी के बाद ये तबादले हुए हैं. दूसरी ओर, यह भी दलील दी जा रही है कि ये सभी कर्मचारी लंबे समय से यहां जमे हुए थे. लिहाजा, रूटीन स्थानांतरण किया गया है.

दरअसल, दो अधिकारियों समेत कुल सात कर्मियों को स्थानांतरित किया गया है. जिला श्रम अधिकारी को शिमला ट्रांसफर किया गया. कुल्लू से प्यारे लाल को मंडी में श्रम अधिकारी तैनात किया गया है. श्रम निरीक्षक भावना शर्मा के रोहड़ू के लिए ट्रांसफर ऑर्डर किए गए हैं. तृतीय श्रेणी के चार कर्मियों के साथ चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को भी स्थानांतरण आदेश मिल चुके हैं.

Youtube Video


जिला श्रम अधिकारी कार्यालय में श्रमिक बोर्ड के सामान वितरण को लेकर अधिकारियों के कामकाज से सरकार में बैठे नेता संतुष्ट नहीं थे. यह स्थानांतरण सप्ताह पहले हुए हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री महेंद्र सिंह ने इसे सिरे से खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि इस तरह के कोई निर्देश नहीं दिए गए थे.
मंत्री के बेटे का हुआ था विवाद

बता दें कि एक साल पहले 9 जनवरी 2020 मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के बेटे रजत ठाकुर की श्रम दफ्तर में महिला कर्मी से बहसबाजी हुई थी. इसका एक वीडियो भी सामने आया था. इस दौरान रजत ने आरोप लगाया था कि विभाग चुनिंदा लोगों को ही मनरेगा की योजना का लाभ दे रहा है. इसी शिकायत पर एक प्रतिनिधिमंडल श्रम विभाग के मंडी कार्यालय गया था. इसमें मनरेगा मजदूर और पंचायत प्रतिनिधि भी शामिल रहे. उन्होंने आरोप लगाए गए थे कि कुछ चुनिंदा लोग विभाग के कुछ कर्मचारियों की सह पर गलत उगाही कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज