शिमलाः नगर निगम ने 1000 प्रॉपर्टी टैक्स डिफॉल्टर्स को भेजे नोटिस, 15 दिन का दिया अल्टीमेटम

शिमला में प्रॉपर्टी टैक्स से जुड़ा मामला.

शिमला में प्रॉपर्टी टैक्स से जुड़ा मामला.

शिमला में प्रापर्टी टैक्स के बड़े डिफॉल्टर्स के आगे नतमस्तक रहने वाला नगर निगम (Municipal Carporation) एक बार फिर जागा है और कई सालों से टैक्स न जमा करने वालों सूची तैयार कर उन्हें 15 दिन का अल्टीमेटम वाले नोटिस जारी किए हैं.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में प्रॉपर्टी टैक्स न चुकाने वाले भवन मालिकों के खिलाफ नगर निगम(Municipal Corporation) एक बार फिर जागा है. निगम ने ऐसे प्रॉपर्टी टैक्स डिफाल्टरों (Property Tax Defaulters) की सूची तैयार की है, जिन्होंने एक साल या कई सालों से टैक्स जमा नहीं किया है.

हालांकि, कोरोना वायरस के चलते नगर निगम शिमला ने शहर के करीब 200 होटल मालिकों को प्रॉपर्टी टैक्स में छूट दी है, लेकिन इसके अलावा, ऐसे एक हजार भवन मालिक है, जिन्होंने एक साल से प्रॉपर्टी टैक्स जमा नहीं किया है. अब निगम ने ऐसे सभी मालिकों को नोटिस जारी कर 15 दिन के भीतर टैक्स जमा करने का अल्टीमेटम(Ultimatum) दिया है. उसके बाद नगर निगम टैक्स न जमा करने वालों पर शिमला नियम 124 के तहत कार्रवाई करेगा.

शिमला में कई बड़े प्रॉपर्टी टैक्स डिफाल्टर

एमसी शिमला के टैक्स इंस्पेक्टर सुरेश शर्मा ने बताया कि नगर निगम शिमला को हर साल शहर के 29 हजार भवन मालिकों से 21 करोड़ रुपये की आमदनी होती है, लेकिन साल 2020-21 में अब तक 13 हजार करोड़ रुपये की आमदनी हो पाई है, जिसमें अभी भी कई भवन मालिक अपना प्रॉपर्टी टैक्स जमा नहीं कर पाए हैं. इससे निगम को 8 करोड़ रुपए की आमदनी होनी है. ऐसे प्रॉपर्टी टैक्स डिफाल्टर्स पर एक्शन लेते हुए नगर निगम शिमला ने उन्हें नोटिस भेज दिए हैं और 15 दिनों के भीतर टैक्स जमा करने को कहा है.
ये हैं बड़े डिफाल्टर

एमसी शिमला के टैक्स इंस्पेक्टर सुरेश शर्मा ने बताया कि इनमें कुछेक बड़े डिफाल्टर भी हैं, जिन्होंने कई सालों से निगम को प्रॉपर्टी टैक्स नहीं दिया है और जिनके खिलाफ पहले से ही निगम कोर्ट में मामला चल रहा है. इनमें आईएसबीटी, शिमला भी शामिल है, जिसपर लगभग पांच करोड़ रुपये की बड़ी कर देनदारी है. इसके अलावा अन्य प्रमुख डिफॉल्टरों ने कहा, सीपीडब्ल्यूडी और कुछ होटल हैं. उन्होंने कहा कि पांच हजार रुपये से अधिक देनदारी वाले सभी भवन मालिकों को नोटिस भेजा गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज