दो साल से नहीं दिया MC शिमला की 987 दुकानों का किराया, विवाद को लेकर बनी कमेटी
Shimla News in Hindi

दो साल से नहीं दिया MC शिमला की 987 दुकानों का किराया, विवाद को लेकर बनी कमेटी
शिमला में निगम की दुकानों का किराये का मामला.

गौरतलब है कि निगम ने 987 सम्पतियों का किराया स्कवेयर फ़ीट के हिसाब से बढ़ाने का फैसला लिया है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला (Shimla) में वर्षों बाद भले ही नगर निगम शिमला (Municipal Corporation Shimla) ने अपनी आय बढ़ाने के लिए किराए और लीज पर दी दुकानों, स्टालों और ढाबों के किराए में बढ़ोतरी की है, लेकिन एक साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद नगर निगम शिमला को अपनी ही संपतियों (Property) से फूटी कौड़ी भी नहीं मिल रही है. निगम संपतियों के किराये में वृद्धि का शिमला व्यापार मंडल और दुकानदारों (Shopkeeper) ने विरोध जताया है और बढ़ा किराया देने से मना किया है.

कई साल बाद बढ़ाया था किराया
बता दें कि नगर निगम शिमला ने कई साल बाद दिसंबर 2018 में अपनी संपतियों का किराया बढ़ाने का फैसला लिया था, लेकिन एक साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी निगम को अपनी ही संपति से आय नहीं हो रही है. अब इस मामले को लेकर संयुक्त आयुक्त के नेतृत्व में गठित की गई कमेटी अंतिम फैसला लेगी. जो एक बार फिर व्यापार मंडल के साथ बैठक कर किराये की दरों को तय करेगी.

कई गुना बढ़ाया था किराया



व्यापार मंडल के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह का कहना है कि नगर निगम शिमला ने कई साल बाद किराये और लीज दरों में वृद्धि की है. कई गुना किराया और दर्रें बढ़ गई हैं. इतना किराया देना दुकानदारों के लिए सम्भव नहीं है और दुकानदार चाहते हैं कि निगम दुकानदारों की स्थिति को देखकर ही किराया बढ़ाए. निगम इस फैसले पर दोबारा विचार करे, ताकि निगम की आय में भी वृद्धि हो और दुकानदारों को भी राहत मिले.



कमेटी बनाई गई
इस मामले पर नगर निगम प्रशासन का कहना है कि इस मामले पर संयुक्त आयुक्त के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया गया है जो जल्द ही बैठक कर अंतिम फैसला लेगी.

यह रेट तय किए गए थे
गौरतलब है कि निगम ने 987 सम्पतियों का किराया स्कवेयर फ़ीट के हिसाब से बढ़ाने का फैसला लिया है. मॉल रोड पर दुकानों के रेट 150 रुपये स्कवेयर फ़ीट, मिडिल बाज़ार में 35 रुपये स्कवेयर फ़ीट, लोअर बाज़ार और लक्कड़ बाज़ार की कॉम्प्लेक्स दुकानों का किराया 40 रुपये वर्ग फुट, लोकल बस स्टैंड और राम बाज़ार का 35 रुपये, गंज बाज़ार सब्जी मंडी का रेट 25 रुपये प्रस्तावित किया गया है. शिमला के उपनगरों में ये रेट 30 रुपये वर्ग फुट प्रस्तावित था. हालांकि, इसको चर्चा के बाद 22 रुपए प्रति वर्ग फुट किया गया. जबकि गोदाम का किराया 7 रुपये वर्ग फुट किया गया. इसके अलावा गोदाम का रेट 10 रुपए रखा गया है इसमें गंज और सब्जी मंडी में गोदाम के रेट 7 रुपये तय किया है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में अपराधियों तक पहुंचने का जरिया बनेगी शराब की बोतल, जानिए कैसे?

बजट सत्र: CM जयराम की कांग्रेस को चुनौती, सदन में ठोक-बजाकर देंगे जवाब

हिमाचल में सक्रिय हुई AAP, एक माह में एक लाख लोगों को जोड़ने का लक्ष्य
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading