शिमला में बंदरों का बढ़ रहा है आतंक, काट खाने के 122 मामले आए सामने

शिमला में लगातार बंदरों द्वारा लोगों पर हमला करने के मामले सामने आ रहे हैं. अकेले जून माह में ही 122 बंदरों के काटने के मामले आईजीएमसी हॉस्पिटल में पहुंचे हैं.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 21, 2019, 1:23 PM IST
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 21, 2019, 1:23 PM IST
हिमाचल प्रदेश में एक ओर बंदरों के आतंक से ग्रामीण खेती छोड़ने को मजबूर हैं तो दूसरी तरफ़ राजधानी शिमला में उनके ख़ौफ़ आए दिन लोगों को डरा रहा है. शिमला में लगातार बंदरों द्वारा लोगों पर हमला करने के मामले सामने आ रहे हैं. इसी हफ़्ते संजौली व सेंट एडवर्ड स्कूल के दो बच्चों पर हमला कर बंदरो ने बुरी तरह घायल कर दिया. इनका इलाज चल रहा है. बंदरों को बर्मिन घोषित कर मारने की भी इजाज़त दे दी है, लेकिन इन्हें मारने को कोई तैयार नहीं है. शिमला नागरिक सभा ने बंदरों के आतंक को लेकर नगर निगम मेयर को एक ज्ञापन सौंपा है और यह मांग उठाई है कि बंदरों को मारने का स्थाई रास्ता निकालें ताकि इनके बढ़ते ख़ौफ़ से छुटकारा मिल सके. नागरिक सभा के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि शिमला में बंदर महिलाओं व बच्चों को अधिकतर अपना निशाना बना रहे हैं. शिमला को बंदरों से बचाने के लिए स्थाई हल की जरूरत है.

नगर निगम और वाइल्ड लाइफ विंग के अधिकारी लेंगे फैसला: मेयर

Monkey's Terror-बंदरों का आतंक
शिमला में इसी हफ़्ते संजौली व सेंट एडवर्ड स्कूल के दो बच्चों पर हमला कर बंदरो ने बुरी तरह घायल कर दिया.


नगर निगम शिमला की मेयर कुसुम सदरेट ने भी माना कि बंदरों की समस्या शिमला में विकराल होती जा रही है. लेकिन बंदरों को बर्मिन घोषित करने के बाबजूद निगम और वन्य जीव विंग कोई कठोर निर्णय नहीं ले पाया है कि इन्हें कौन मारेगा? उन्होंने कहा कि नगर निगम और वाइल्ड लाइफ विंग के अधिकारी बैठकर इस मामले पर कोई अंतिम फैसला लेंगे.

दो हजार से ज्यादा बंदरों की हुई नसबंदी

गौरतलब है कि शिमला शहर मे बंदरों का आतंक इतना हो गया है कि हर माह दर्जनों लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं. अकेले जून माह में ही 122 बंदरों के काटने के मामले आईजीएमसी हॉस्पिटल में पहुंचे हैं. वहीं वन विभाग के मुताबिक शिमला शहर में बंदरों की संख्या 2156 से ज्यादा है, जिनकी नसबंदी की जा चुकी है.

यह भी पढ़ें: SPORTS: चंबा के कल्याण सिंह को चैंपियन बनने के लिए लोहे की फैक्ट्री में करनी पड़ी मजदूरी
Loading...

 पूर्व स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के गृह जिले में चार लाख की आबादी पर है एक लेडीज डॉक्टर

 धर्मशाला के भागसू वॉटरफॉल में लैंडस्लाइड, आठ माह की बच्ची की मौत, सात घायल 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 21, 2019, 11:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...