हिमाचल में 25 जून के बाद आएगा मॉनसून, बारिश से पारा 8 डिग्री लुढ़का
Shimla News in Hindi

हिमाचल में 25 जून के बाद आएगा मॉनसून, बारिश से पारा 8 डिग्री लुढ़का
प्री-मानसून एक्टिविटीज शांत होने के बाद प्रदेश में अभी एंटीसाइक्लोनिक सर्कुलेशन बना हुआ है. (सांकेतिक तस्वीर)

शिमला में मई में 21 साल बाद एक दिन में जमकर बारिश रिकॉर्ड हुई. 31 मई को शिमला में 63.4 मिलीमीटर बारिश हुई. इससे पहले 24 मई 1999 को शिमला में 65 मिमी बारिश दर्ज हुई थी. मंडी में 33 साल पहले 1987 में इतनी बारिश हुई थी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
शिमला. हिमाचल प्रदेश बीते तीन दिन से मौसम (Weather) खराब बना हुआ है. रुक-रुककर राहत की बौछारें पड़ रही हैं. इससे सूबे में गर्मी से राहत मिली है और पारा भी गिरा है. वहीं, मौसम विभाग के अनुसार, हिमाचल (Himachal Pradesh) में 25 जून से 28 जून के बीच मॉनसून (Monsoon) दस्तक दे सकता है. मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, 20 जून तक प्रदेश में प्री-मानसून की बौछारें शुरू हो सकती हैं. बीते साल के मुकाबले इस बार तीन से चार दिन पहले मॉनसून हिमाचल पहुंच सकता है.

राज्य में येलो अलर्ट

हिमाचल में येलो अलर्ट के बीच सोमवार को प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादल छाए रहे और शिमला और मनाली सहित कुछ स्थानों पर हल्की बूंदाबांदी हुई. इसके अलावा, कई स्थानों पर धूप और बादल छाए रहे. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बीते दिनों ताजा बर्फबारी और अन्य क्षेत्रों में हुई बारिश से सोमवार को अधिकतम तापमान में सात से आठ डिग्री की कमी दर्ज हुई. मंगलवार यानी आज भी प्रदेश में बारिश का पूर्वानुमान है.



सात जून तक मौसम खराब



मौसम विज्ञान के शिमला केंद्र ने पांच जून को मैदानी जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा और मध्य पर्वतीय जिलों शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू और चंबा के कई क्षेत्रों में भारी बारिश, ओलावृष्टि और अंधड़ की चेतावनी जारी की है. प्रदेश में सात जून तक मौसम खराब रहने की संभावना है.

मई में सामान्य से ज्यादा बरसे बादल

हिमाचल में मई में सामान्य से 923 फीसदी ज्यादा बादल बरसे हैं. सोलन और लाहौल-स्पीति जिलों को छोड़कर शेष सभी जिलों में सामान्य से ज्यादा बारिश दर्ज हुई. एक से 31 मई तक हिमाचल में 18 मिलीमीटर बारिश हुई. इस दौरान 1.8 मिलीमीटर बारिश को सामान्य बारिश माना गया है. मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक डॉ. मनमोहन सिंह ने बताया कि मई में इस साल पश्चिमी विक्षोभ अधिक सक्रिय रहने से बारिश सामान्य से अधिक हुई.

शिमला और मंडी में रिकॉर्ड बारिश

शिमला में मई में 21 साल बाद एक दिन में जमकर बारिश रिकॉर्ड हुई. 31 मई को शिमला में 63.4 मिलीमीटर बारिश हुई. इससे पहले 24 मई 1999 को शिमला में 65 मिमी बारिश दर्ज हुई थी. मंडी में 33 साल पहले 1987 में इतनी बारिश हुई थी. हिमाचल में इस साल मार्च से मई तक 270 मिमी बारिश हुईय इस अवधि में सामान्य से 19 फीसदी अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई. साल 2015 में मार्च से मई तक प्रदेश में 313 मिलीमीटर बारिश हुई थी. प्रदेश में मार्च से मई तक बारिश के 16 स्पैल आए, इसमें 10 स्पैल में भारी बारिश हुई. किन्नौर व लाहौल स्पीति को छोड़कर शेष सभी जिलों में समान्य से ज्यादा बारिश दर्ज की गई.

मैदानी इलाकों को राहत

अधिकतम तापमान में कमी आने से प्रदेश के मैदानी जिलों में गर्मी से राहत मिली है. सोमवार को ऊना में अधिकतम तापमान 33.0, बिलासपुर 31.0, हमीरपुर 30.8, सुंदनगर 30.5, मंडी 30.3, भुंतर 29.6, नाहन 27.0, सोलन 26.7, कांगड़ा 26.0, धर्मशाला 24.8, चंबा 24.3, शिमला 19.9, मनाली 18.4, डलहौजी 14.5, कल्पा 15.0 और केलांग में 15.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ.

ये भी पढ़ें: मंडी : 4 साल पहले बड़े भाई ने पिता को मारा था, अब छोटे ने नानी का मर्डर किया

हिमाचल में पहले दिन HRTC के 2222 रूट बहाल, नहीं चली प्राइवेट बसें

COVID-19: सुंदरनगर में कोरोना वायरस की दस्तक, 33 वर्षीय युवक निकला पॉजिटिव
First published: June 2, 2020, 10:29 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading