हिमाचल में कोरोना की मार, जन्माष्टमी उत्सव पर मंदिरों में पसरा सन्नाटा
Shimla News in Hindi

हिमाचल में कोरोना की मार, जन्माष्टमी उत्सव पर मंदिरों में पसरा सन्नाटा
शिमला का राधाकृष्ण मंदिर.

हिन्दू धर्म के अनुसार जन्माष्टमी का पर्व भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है. जन्माष्टमी पर्व को ये मान्यता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने अवतार लिया था. तभी से ले कर भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में कृष्ण जन्मोत्सव यानी जन्माष्टमी का त्यौहार 11 अगस्त को मनाया जा रहा है. लेकिन कोविड-19 की वजह से प्रदेश में इस बार बड़े आयोजन जन्माष्टमी पर नहीं होंगे, लेकिन लोगों में इस पर्व को लेकर उत्साह में कोई कमी नहीं है. लोग अपने घरों पर ही जन्माष्टमी मनाएंगे और इसे लेकर तैयारियां भी लोग काफी समय से कर रहे हैं. राजधानी शिमला में भी कृष्ण जन्माष्टमी पर इस बार बड़े आयोजन नहीं किये जा रहे हैं. कोविड 19 कि वजह से यहां मंदिर बंद हैं.

इस बार मंदिरों में सन्नाटा

यही वजह है कि हर वर्ष जहां शिमला के प्रसिद्ध राधा कृष्ण मंदिर में जन्माष्टमी महोत्सव मनाया जाता था, वहाँ पर भी इस बार कोई आयोजन नहीं किया जा रहा है. मात्र मंदिर में बंद कपाटों के पीछे ही भगवान कृष्ण का श्रृंगार और विशेष पूजा अर्चना की जाएगी. न ही लोगों को भीड़ मंदिर में कान्हा जी के दर्शनों के लिए जुटेगी और न ही कान्हा के दर्शन हो पाएंगे.



हिन्दू धर्म के अनुसार जन्माष्टमी का पर्व
हिन्दू धर्म के अनुसार जन्माष्टमी का पर्व भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है. जन्माष्टमी पर्व को ये मान्यता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने अवतार लिया था. तभी से ले कर भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है. वही इस वर्ष 11 अगस्त से अष्टमी शुरू हो जाएगी, जिसके चलते व्रत भी 11 अगस्त को ही किया जाएगा.

कृष्ण भगवान की पूरे विधि-विधान से पूजा

शिमला के राधा कृष्ण मंदिरके पुजारी उमेश नोटियाल ने कहा कि इस बार कोविड के वजह से मंदिर में जन्माष्टमी का उत्सव, जिस तरह से मनाया जाता था, वो इस बार नहीं होगा. लेकिन मंदिर में कृष्ण भगवान की पूजा पूरे विधि विधान से की जाएगी। कान्हा जी को स्नान कराने के साथ ही उनका श्रृंगार किया जाएगा और उन्हें माखन मिश्री का भोग लगाया जाएगा. वहीं रात 12 बजे कृष्ण जन्मोत्सव पर विशेष पूजा मन्दिर के गर्भ गृह में की जाएगी. इस बार आयोजन बंद दरवाजों के पीछे होगा और लोग इस उत्सव में शामिल नहीं हो पाएंगे. लोग घरों पर रह कर ही कृष्ण जन्मोत्सव का जश्न मना सकते है और भगवान की उपासना कर सकते हैं.

शिमला में खरीदारी करती महिलाएं.
शिमला में खरीदारी करती महिलाएं.


क्या करें लोग

व्रत का विधान करने के साथ ही भगवान कृष्ण का स्नान कर उनका श्रृंगार कर इस दिन पर भगवान कृष्ण की पूजा अर्चना करें. पंडित जी ने बताया कि भारत मे कोरोना महामारी से अभी तक भगवान ही बचाव कर रहे हैं. नहीं तो यहां स्थिति बिगड़ सकती थी. ऐसे में उन्हें पूर्ण विशवास है कि जन्माष्टमी पर जब सभी लोग मिल कर प्रार्थना करेंगे तो ये महामारी जल्दी ही खत्म हो जाएगी.

मंदिरों में सजावट

सनातन धर्म सभा की ओर से मंदिर परिसर को इस दिन के लिए खास तरीके से सजाया जा रहा है. फूलों और रंगबिरंगी लाइट्स से मंदिर परिसर को सजाया जा रहा है. सनातन धर्म सभा के अध्यक्ष अजय सूद ने बताया कि इस बार जन्माष्टमी महोत्सव राधा कृष्ण मंदिर में मनाया जा रहा है. मंदिर के भव्य तरीके से सजाया जा रहा है. सरकार के निर्देशानुसार मंदिर के कपाट बंद ही रहेंगे. वहीं स्थानीय लोग बाजारों में खरीदारी करते हुए नज़र आए. महिलाओं ने कहा कि मंदिरों के कपाट बंद होने के चलते वो काफी निराश हैं. लेकिन घर और पूरे विधिविधान से ये पर्व मनाएंगी. इस दिन वो भगवान से प्रार्थना करेंगी कि महामारी का जल्द अंत हो और सभी पहले की तरह सामान्य हो जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज