Shimla: गांव में इंटरनेट का सिग्नल नहीं, कुछ यूं जंगल में ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं बच्चे

शिमला में जंगल में पढ़ाई करते बच्चे.

शिमला में जंगल में पढ़ाई करते बच्चे.

No Mobile Signal in Shimla Village: मीडिया से बातचीत में एसडीएम सौरभ जस्सल ने बताया कि बीएसएनएल अधिकारी को इस बारे में अवगत करवाया जाएगा, जिससे की जनता की समस्या का जल्द समाधान हो सके.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश के शिमला (Shimla) जिले में डिजीटल इंडिया को बड़ा झटका लगा रहा है. राजधानी से 70 किमी दूर कोटखाई की गरावग पंचायत में बीएसएनएल (BSNL) का सिग्नल गुल है. इस वजह से क्षेत्र के सैकड़ों बच्चों के लिए ऑनलाइन पढ़ाई करना मुश्किल हो गया है.

मजबूरी में अभिभावक और बच्चों को जंगल में ऊंचे स्थानों पर सिग्नल (Signal) के लिए जाना पड़ता है. ग्राम पंचायत गरावग के अंतर्गत जौणी, गरे, गरावग, शाऊं, शोशन, गंडुवा, कदेवली, महोली, कुड़ी और चेवर गांव में बीते दस दिनों से यह समस्या चली आ रही है.

क्या कहते हैं लोग

लोगों का कहना है कि बीएसएनएल सिग्नल गांव में आसपास कहीं पर भी नहीं है. इस वजह से बच्चों की ऑनलाइन लगने वाली कक्षाओं की वजह से परेशान है. मजबूरी में अभिभावकों को बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए सिग्नल की तलाश में गांव से दूर जंगल में जाना पड़ता है. यहां पर उन्हें मोबाइल में सिग्नल मिलते हैं. गांव के बच्चे अभिभावकों के साथ यहां इकट्ठे होकर बच्चों की पढ़ाई करवा रहे है.
क्या कहता है पंचायत

पंचायत निवासी जोगिंद्र सिंह, पवन चौहान, साहिल धरना, विक्रम, मनोज, अक्षय, श्यामलाल और अशोक चौहान ने बताया कि सिग्नल नहीं होने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है. मीडिया से बातचीत में एसडीएम सौरभ जस्सल ने बताया कि बीएसएनएल अधिकारी को इस बारे में अवगत करवाया जाएगा, जिससे की जनता की समस्या का जल्द समाधान हो सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज