लाइव टीवी

हिमाचल में 73 पूर्व विधायकों ने लिया लोन, चुकाओ जब मर्जी, लेकिन ब्याज 4% ही रहेगा

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 1, 2019, 12:58 PM IST
हिमाचल में 73 पूर्व विधायकों ने लिया लोन, चुकाओ जब मर्जी, लेकिन ब्याज 4% ही रहेगा
हिमाचल में पूर्व विधायकों ने लाखों का कर्ज लिया है. (सांकेतिक तस्वीर.)

बीजेपी हिमफैड के चैयरेमन एवं बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष गणेश दत्त का मानना है कि यह विधायकों के लिए की गई एक व्यवस्था है. इस पैसे को विधायकों की सैलरी और पूर्व विधायकों की पेंशन से काटा जाता है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल में माननीयों की मौज है. यात्रा भत्ता चार लाख हो गया है और कर्ज 4 प्रतिशत पर मिल रहा है. देश में किसानों को खेतीबाड़ी के लिए 4 प्रतिशत ब्याज दर पर कर्ज देने की व्यवस्था है, लेकिन किसान कर्ज चुका नहीं पाता और आत्महत्याएं की जा रही हैं. उनका जीवन स्तर ऊपर नहीं उठ रहा है. लेकिन यदि आप एक बार एमएलए (MlA) बन गए तो फिर आपकी मौज है. क्योंकि सुविधाएं और सहुलियतें मिलने के बाद आपको कर्ज भी मिलेगा, वह भी 4 प्रतिशत ब्याज पर.

पूर्व विधायक भी बन जाएंगे तो भी घर और गाड़ी खरीदने के लिए इसी ब्याज पर कर्ज दिया जाएगा. हिमाचल में कई पूर्व विधायक विधानसभा से एडवांस लोन ले चुके हैं, लेकिन चुकाएंगे कब तक, इसका कुछ पता नहीं.

कुल 73 विधायकों ने लिया है लोन
हिमाचल के 73 पूर्व विधायक ऐसे हैं, जिन्होंने विधानसभा से लोन किया है. इनमें भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने 15 लाख लोन लिया है, जिसमें 7 लाख 55 हजार 25 रुपये चुकाने बाकी है. आरटीआई एक्टिविस्ट देवाशीष भट्टाचार्य की ओर से ली गई आरटीआई में इसका खुलासा हुआ है. इसी तरह पूर्व मंत्री और मौजूदा सांसद किशन कपूर ने भी 20 लाख कर्ज लिया है, जिसमें से 7 लाख 88 हजार रुपये चुकाने हैं. पूर्व विधायक नवीन धीमान ने भी विधायक रहते 15 लाख रूपये कर्ज लिया था और अब तक 13 लाख 92 हजार बकाया है. पूर्व भाजपा सरकार में मंत्री रविंद्र सिंह रवि ने 35 लाख कर्ज लिया था, जिसमें 26  लाख देने हैं.

हिमाचल के कुल 73 विधायकों ने कर्ज लिया है.
हिमाचल के कुल 73 विधायकों ने कर्ज लिया है.


कांग्रेस से लेकर भाजपाई तक शामिल
कांग्रेस नेता सुधीर शर्मा ने 50 लाख लोन लिया था, इसमें 37 लाख रुपये चुकाने हैं. वहीं, पूर्व स्वास्थ मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने घर बनाने के लिए 19 लाख रुपये लिये थे, जिसमें 14 लाख बचे हैं. वहीं, मोटर-कार के लिए उन्होंने 30 लाख लिये थे, जिसमें 20 लाख बकाया है. बल्ह से कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक प्रकाश चौधरी ने भी घर बनाने के लिए 36 लाख लिए थे, जिसमें 26 लाख अभी चुकाने हैं. मौजूदा भाजपा अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने भी घर बनाने के लिए 20 लाख लिये थे, जिसमें 10 लाख बकाया है. महेश्वर सिंह ने 37 लाख लोन लिया है और 27 लाख बकाया है. विधायक रहते लाखों रुपये लिये गए और लाखों रुपये अभी चुकाने बाकी हैं.
Loading...

यह बोले भाजपा उपाध्यक्ष
बीजेपी हिमफैड के चैयरेमन एवं बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष गणेश दत्त का मानना है कि यह विधायकों के लिए की गई एक व्यवस्था है. इस पैसे को विधायकों की सैलरी और पूर्व विधायकों की पेंशन से काटा जाता है. हालांकि, जो लंबे समय से पैसे का भुगतान नहीं कर रहे हैं, उन्हें लेकर कार्रवाई का अधिकार विधानसभा सचिवालय को ही है.

यह है नियम
वैसे नियमों के तहत सभी विधायक 50 लाख रुपये तक एडवांस लेने के लिए पात्र हैं और पूर्व विधायक को 15 लाख रुपये कर्ज दिया जा सकता है. अगर किसी विधायक या पूर्व विधायक की लोन चुकाए बगैर ही मौत हो जाती है तो उस स्थिति में अगर राज्यपाल संतुष्ट है कि संबंधित परिवार कर्ज नहीं चुका सकता, तब बाकी बचे लोन को माफ भी किया जा सकता है. सवाल यह है कि इतना भारी भरकम कर्ज जनता की गाढ़ी कमाई से दिया जाता है, जबकि आम लोगों को कर्ज देती बार भी कई बहाने किए जाते हैं.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में वैट बढ़ोतरी के बाद बढ़े पैट्रोल और डीजल के दाम

500 मीटर नीचे खाई में जली थीं लाइटें, पास जाकर देखा तो दो लाशें पड़ी हुई थी

सोलन में प्राइवेट यूनिवर्सिटी के छात्र के कमरे से चिट्टा बरामद, आरोपी फरार

चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे पर हुआ बस हादसा, 15 घायल

महिला सुरक्षाकर्मी की थप्पड़ से बेहोश हुई चौथी कक्षा की बच्ची,मामला पुलिस में

हिमाचल में मौसम: तीन दिन तक बारिश और बर्फबारी के आसार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 11:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...