कोरोना का खौफ: स्पीति घाटी में पर्यटन गतिविधियों पर रोक, अगले साल खुलेंगे होटल

हिमाचल प्रदेश स्थित स्पिति वैली की तस्वीर.
हिमाचल प्रदेश स्थित स्पिति वैली की तस्वीर.

स्पीति में कोरोना के बाद से टूरिज्म गतिविधियां शुरू नहीं हो पाई हैं. यहां के स्थानीय लोग टूरिज्म पर काफी निर्भर हैं. लेकिन सोसाइटी का कहना है कि वह संक्रमण फैलने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं. ऐसे में अब 1 अप्रैल 2021 में यहां सारी गतिविधियां शुरू होंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 9:50 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में कोरोना मामले बढ़ने के बाद कुछ जगह पर बंदिशें लगनी शुरू हो गई है. हालांकि, सरकार की ओर से बंदिशे नहीं लगाई गई हैं, लेकिन स्थानीय लोग और सेल्प ग्रुप बंदिशे लगा रहा है. अब लाहौल-स्पीति में पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है. स्पीति के मुख्यालय काजा में होटल और होम स्टे अब 31 मार्च 2021 तक बंद रहेंगे. डीसी और व्यापार मंडल ने बैठक कर फैसला लिया है. स्पीति टूरिज्म सोसाइटी ने यह जानकारी दी है.

अगले साल अप्रैल में खुलेगी घाटी

वहीं, लाहौल में बढ़ते संक्रमण के चलते 16 से 18 नवंबर तक तीन दिन के लिए केलांग बाजार भी बंद रखने का एलान किया है. सिस्सू, कोकसर और गोंधला पंचायतों ने पहले ही पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगा दी है. स्पीति टूरिज्म सोसायटी के अनुसार, घाटी में पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगाई गई है. इस संबंध में हर स्तर पर चर्चा हुई है. काजा में सभी होटल और होम स्टे को 31 मार्च, 2021 तक बंद रहेंगे.



क्यों लिया फैसला
दरअसल, सर्दियों में स्पीति में भारी बर्फबारी होती है. हालांकि, बड़ी संख्या में यहां सैलानी आते हैं. लेकिन स्पीति में जिस तरह रोजाना कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए यह निर्णय लिया गया है. सोसाइटी का कहना है कि सर्दियों में स्वास्थ्य सेवा में परेशानी होती है. ऐसे में संक्रमण फैलता है तो ज्यादा परेशानी होगी. मरीजों को आईसोलेट करने में दिक्कत पेश आएगी.

टूरिज्म पर स्पीति की आर्थिकी
स्पीति में कोरोना के बाद से टूरिज्म गतिविधियां शुरू नहीं हो पाई हैं. यहां के स्थानीय लोग टूरिज्म पर काफी निर्भर हैं. लेकिन सोसाइटी का कहना है कि वह संक्रमण फैलने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं. ऐसे में अब 1 अप्रैल 2021 में यहां सारी गतिविधियां शुरू होंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज