होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /हिमाचल: हर 30 घंटे में रेप, हर 12 घंटे बाद छेड़छाड़!

हिमाचल: हर 30 घंटे में रेप, हर 12 घंटे बाद छेड़छाड़!

भाजपा सरकार के पहले साल में शायद ही जुर्म की कोई ऐसी घटना न घटी हो, जिस पर देवभूमि को शर्मिंदा न होना पड़ा हो.

    हिमाचल की शांत वादियों में अपराधियों के हौंसले दिन-ब-दिन बुलंद होते जा रहे हैं. News-18 ने बीते एक साल के कार्यकाल की क्राइम रिपोर्ट तैयार की तो चौंकाने वाले आंकड़ें सामने आएं. हिमाचल पुलिस की ओर से जारी आंकड़े के अनुसार, भाजपा सरकार के बीते एक साल के कार्यकाल में हर 30 घंटे में एक महिला से दुष्कर्म का मामला सामने आया है, जबकि हर 12 घंटे में एक महिला यौन शोषण की शिकार हुई है.

    जनवरी 2018 से लेकर दिसंबर 2018 तक तक प्रदेश में दुष्कर्म के 345 और यौन शोषण के 515 मामले दर्ज हुए हैं, जबकि अपहरण की 476 वारदात पुलिस थानों की फाइलों में कैद हो गई. 3 बड़े गोलीकांड हुए और 98 हत्याएं की गईं. दहेज के चलते 4 महिलाओं को जान गंवानी पड़ी और 183 महिलाएं क्रूरता की शिकार हुईं.

    हेल्पलाइन भी नहीं कर पाई हेल्प
    सरकार ने गुड़िया हेल्पलाइन और शक्ति एप्प लांच कर वाह-वाही तो खूब लूटी, लेकिन अंजाम अब तक वही ढाक के तीन पात रहा. महिलाओं के प्रति अपराधों पर पूर्व की कांग्रेस को कोसने वाले जब खुद सत्ता में आए तो सारे दावे हवा-हवाई हो गए. बता दें कि बहुत हुआ महिलाओं पर अत्याचार, अबकी बार भाजपा सरकार…इसी नारे का ढोल पीट-पीट कर भाजपा दिसंबर 2017 में सत्ता में वापस लौटी थी.

    भाजपा सरकार ने वादा किया था कि देवभूमि को अपराध मुक्त बनाएंगे. कोटखाई के गुड़िया गैंगरेप और मर्डर पर जमकर हो-हल्ला किया गया था. वीरभद्र सरकार पर कई लांछन लगाए गए थे, लेकिन जब सत्ता अपने हाथ में आई तो महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों की संख्या कम होने के बजाए कहीं ज्यादा बढ़ गई.

    वीरभद्र सरकार-17-जयराम सरकार-18
    अपहरण: 341-476
    हत्या: 99-98
    दहेज के चलते मौत-3-4
    क्रूरता-191-183
    यौन शौषण-404-515

    कांग्रेस कार्यकाल के मुकाबले भाजपा राज में इजाफा
    वीरभद्र सरकार के आखिरी साल यानी 2017 में दुष्कर्म के 248 मामले दर्ज हुए जबकि जयराम राज के एक साल में 345 मामले दर्ज हुए. भाजपा को सत्ता का सुख भोगते-भोगते एक साल बीत गया और देवभूमि के थानों में 19 हजार 594 मुकद्दमें दर्ज हो गए, जोकि वीरभद्र राज के आखिर साल के मुकाबले कहीं ज्यादा थे. साल 2017 में 17 हजार 799 मामले दर्ज हुए थे.

    ये बड़े मामले हुए
    जयराम राज के पहले साल में शायद ही जुर्म की कोई ऐसी घटना न घटी हो जिस पर देवभूमि को शर्मिंदा न होना पड़ा हो, चाहे वो कसौली का गोलीकांड हो, पालमपुर में नाबालिग से गैंगरेप हो, मनाली में विदेशी महिला से सामूहिक बलात्कार हो या फिर सिरमौर में गर्भवती से दुष्कर्म का मामला. जाने कितनी ही नाबालिग ऐसी हैं जो बदनीयती का शिकार हुई हैं, लेकिन सरकार अपनी पीठ-थपथपाने में ही लगी है. सरकार की ओर से बस दावे ही किए जा रहे हैं. कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस को शायद अब सियासतदान भूल ही चुके हैं.

    ये भी पढ़ें : PHOTOS: हिमाचल प्रदेश के किस शहर में मिल रहा है सबसे सस्ता पेट्रोल-डीजल, जानें आज के भाव

    हिमाचल में पहली बार हाईस्पीड डेटा के लिए BSNL ने 4G सर्विस की लॉन्च

    कुल्लू : ब्यास नदी में तैरता हुआ मिला अधेड़ का शव, पुलिस ने किया रेस्क्यू

    VIDEO: कांगड़ा का बीड़ बिलिंग जल्द बनेगा वर्ल्ड क्लास टूरिस्ट स्पॉट

    VIDEO: रेल राज्य मंत्री ने ऊना जिले में रेल लाइन और दो ट्रेनों का किया लोकार्पण

    हिमाचल में स्वाइन फ्लू से 16 माह की बच्ची की मौत, कांगड़ा में सबसे ज्यादा मामले

    Tags: Rape, Shimla

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें