रसोई का जायका हुआ फीका: शिमला में सेब से महंगा हुआ प्याज और मटर
Shimla News in Hindi

रसोई का जायका हुआ फीका: शिमला में सेब से महंगा हुआ प्याज और मटर
हिमाचल में प्याज के दाम आसमान छूने लगे हैं.

Onion Prices in Himachal: प्याज के दाम बढ़ने के पीछे का एक कारण प्याज (Onion) उत्पादक राज्यों में बाढ़ (Flood) का आना भी बताया जा रहा है. साथ ही इंपोर्ट (Import) भी घटा है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल में प्याज (Onion) की कीमतें (Price) आसमान छूने लग गई है. प्याज ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है. यहां तक कि छोटे दुकानदारों ने प्याज खरीदने में ही हाथ पीछे खींच लिए हैं. मटर की कीमतें भी आसमान छू रही हैं और 100 रुपये पार कर गई हैं. शिमला (Shimla) में प्याज की कीमतों ने छलांग लगा दी है. एक सप्ताह पहले जो प्याज 30 रुपये किलो बिक रहा था, वही अब 60 रुपये किलो हो गया है.

शिमला में प्याज का हाल
प्याज के दामों ने सेब को भी पीछे छोड़ दिया था. नार्मल क्वालिटी का सेब (Apple) 40 से 50 रुपये किलो बिक रहा है. ऐसे में प्याज ने उपभोक्ताओं के आंसू निकालना शुरू कर दिया है. थोक मंडी में भी प्याज के दाम 50 रुपये किलो हैं, जबकि दुकानों पर यह 60 रुपये बिक रहा है. वहीं, रिटेल में मटर (Peas) 120 रुपये से 150 किलो बिक रहा है.

दुकानदारों ने खींचे हाथ
शिमला (Shimla) के कुसुमपट्टी में स्थानीय महिला निर्मला देवी और रामप्रकाश का कहना है कि प्याज का दामों काफी बढ़ें हैं और सरकार को इन्हें कम करने के लिए कुछ करना चाहिए. कई छोटे दुकानदारों ने प्याज के दाम बढ़ते ही प्याज बेचना बंद कर दिया है. दुकानदारों का तर्क है कि लोग कम खरीददारी कर रहे हैं, इसलिए उन्हें लाभ कम हो रहा है. सरकार को किसानों के लिए राहत पैकेज देना चाहिए, ताकि दाम न बढ़ सके. साथ ही कुछ दुकानदारों ने प्याज की खरीददारी को कम कर दिया है.



इस वजह से बढ़े दाम
प्याज के दाम बढ़ने के पीछे का एक कारण प्याज (Onions) उत्पादक राज्यों में बाढ़ का आना भी बताया जा रहा है. साथ ही इंपोर्ट भी घटा है. ऐसे में समय रहते अगर सरकार ने प्याज के दामों को नियंत्रित नहीं किया तो मुसीबत और बढ़ सकती है.

मंडी के सुंदरनगर का हाल
सुंदरनगर (Sunder Nagar) की धनोटू सब्जी मंडी में प्याज का थोक मूल्य 60 से 70 रुपये प्रति किलोग्राम रहा. रिटेल मार्केट में प्याज का दाम 80 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गए हैं. सब्जी मंडी के व्यापारियों ने कहा कि प्याज की कीमतों में आई अत्याधिक तेजी के कारण उनके व्यवसाय पर खासा असर पड़ा है. जो विक्रेता पहले रिटेल के लिए 4 से 5 बोरी खरीदता था, वह अब मात्र 1 से 2 बोरी तक ही सिमट कर रह गया है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल उपचुनाव: पिता धूमल के चुनाव लड़ने पर बोले अनुराग-उन्हें जानकारी नहीं

हिमाचल उपचुनाव: नामांकन आज से, कांग्रेस ने मांगे आवेदन

धारा-118: हिमाचल में अब जमीन लीज पर लेने के लिए ऑनलाइन कीजिए आवेदन

शिमला: किराये के कमरे से चिट्टा तस्करी कर रहे युवक-युवती गिरफ्तार

VIDEO: नाले के तेज बहाव में बहा बाइक सवार, पेड़ से लटककर बचाई जान

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज