पंचायत-नगर निकाय चुनाव: हिमाचल में नए साल में जनवरी में होंगे चुनाव!

हिमाचल में पंचायत चुनाव.

हिमाचल में पंचायत चुनाव.

Panchayat Election in Himachal: नई गाइडलाइन को भी जल्द जारी किया जाएगा. नियमों के तहत पंचायत चुनाव 25 जनवरी से पहले और नगर निकाय चुनाव 18 जनवरी से पहले सम्पन्न हो जाने चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2020, 11:07 AM IST
  • Share this:
शिमला. लोकतंत्र की सबसे छोटी इकाई पंचायत और नगर निकाय चुनाव (Panchyat Elections in Himachal) के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं. हिमाचल (Himachal Pradesh) में इसी साल पंचायती राज संस्थाओं और नगर निकाय के चुनाव होने हैं. इसके लिए हिमाचल निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची जारी की है. इस बीच 18 साल पूरा करने वाले युवाओं को मौका दिया गया है. अब 1 दिसंबर 2020 तक वे अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज करवा सकते हैं.

इससे पहले 1 जनवरी 2020 तक 18 साल पूरा करने वाले युवा ही अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज करवा सकते थे. लेकिन, अब हिमाचल निर्वाचन आयोग (Himachal Election Commission) ने फैसला किया है कि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को मतदान का मौका दिया जाए. सचिव हिमाचल निर्वाचन आयोग सुरजीत राठौर ने इसकी पुष्टि की है. साल 1995 के बाद यह पहला मौका है, जब हिमाचल निर्वाचन आयोग ने अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए यह फैसला किया है.

कोरोना संकट के बीच चुनाव करवाना चुनौती

इस बार पंचायत चुनाव करवाना बड़ी चुनौती है, क्योंकि कोरोना का संकट है. ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग सहित तमाम एहतियात का सख्ती से पालना करवाना किसी चुनौती से कम नहीं है. राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव सुरजीत राठौर ने कहा कि कोरोना के चलते गाइडलाइन भी तैयार की गई है. कैसे सोशल डिस्टेसिंग होगी या फिर स्कैनिंग की व्यवस्था करनी है.
नई गाइडलाइन को भी जल्द जारी किया जाएगा. नियमों के तहत पंचायत चुनाव 25 जनवरी से पहले और नगर निकाय चुनाव 18 जनवरी से पहले सम्पन्न हो जाने चाहिए. इसी तरह चुनावों की घोषणा इससे 35 दिन पहले हो जानी चाहिए. हालांकि, अभी समय है, लेकिन इस बार 405 नई पंचायतें बनी हैं, जिसके चलते प्रेशर भी ज्यादा है. नई पंचायतों और नगर निकाय की वार्डबंदी का काम चला हुआ है और इसमें समय लग रहा है.

14 अक्तूबर तक दर्ज करा सकते हैं आपत्तियां

नई बन रही पंचायतों के अलावा बाकी पंचायतों की मतदाता सूचियां राज्य निर्वाचन आयोग ने जारी कर दी हैं. इनमें अगर किसी मतदाता का नाम नहीं है तो वह 14 अक्तूबर तक संबंधित रिवाइजिंग अथॉरिटी के पास अपने दावे या आपत्तियां प्रस्तुत कर सकते हैं. सुरजीत राठौर ने कहा कि मतदाता सूचियों में अपना नाम आयोग की बेवसाइट में भी देखा जा सकता है, लेकिन आपत्तियां दर्ज करने के लिए संबधित रिवाइजिंग अथोरिटी के पास ही जाना होगा.



पंचायत चुनाव में प्रयोग होंगी मतपेटियां

पंचायती राज संस्थाओं के लिए होने वाले चुनावों में जिला परिषद, समिति सदस्य, पंचायत प्रधान, वार्ड पंच के लिए चुनाव होते हैं. इसके लिए मतपेटियों का प्रयोग किया जाएगा. हालांकि नगर निकाय चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल होगा. इस बार पंचायत चुनावों के लिए ज्यादा पोलिंग बूथ स्थापित होंगे. नई पंचायतें बनने के बाद 25 हजार से ज्यादा पोलिंग बूथ स्थापित होने की उम्मीद है जबकि पिछली बार 20 हजार 350 केंद्र स्थापित थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज