पानी की कहानी : नदियों में जलस्तर गिरा, 20 से 22 लाख यूनिट घटा बिजली उत्पादन

हिमाचल वैसे तो 10 हजार 500 मैगावाट बिजली पैदा करता है. बहरहाल, देखना होगा कि जो सरकारा को राजस्व के रूप में नुकसान उठाना पड़ रहा है, उसके लिए क्या रास्ता निकाला जाता है.

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 17, 2018, 6:36 PM IST
पानी की कहानी : नदियों में जलस्तर गिरा, 20 से 22 लाख यूनिट घटा बिजली उत्पादन
water Issue in Himachal
Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 17, 2018, 6:36 PM IST
हिमाचल प्रदेश में समय पर बर्फबारी न होने और अब बर्फ पिघलने की रफ्तार कम होने से प्रदेश में बिजली संकट गहराने का खतरा पैदा हो गया है. प्रदेश की नदियों में जलस्तर कम होने से इस साल कम बिजली पैदा होगी. सरकार भी इस से चिंतित हो उठी है.

बिजली राज्य कहे जाने वाले हिमाचल में बिजली संकट पैदा होने खतरा बन गया है. सर्दियों में जमकर बर्फबारी न होना और अब बर्फ पिघलने की रफ्तार कम होने से बिजली उत्पादन कम हो रहा हैय बिजली उत्पादन पर मौसम की मार का अभी से सीधा असर पड़ रहा है.

ताजा हालात में बिजली बोर्ड के पास 20 से 22 लाख यूनिट बिजली की कमी पड़ रही है. इसकी पूर्ति सरकार को करनी पड़ रही है. प्रदेश में जितने भी निजी क्षेत्र के हाइडल प्रोजैक्टस हैं, उनसे सरकार को 12 प्रतिशत हिस्सेदारी के रूप में बिजली मिलती है. इस बिजली को सरकार बाहरी राज्यों को बेचती थी, लेकिन अब यह बिजली बोर्ड को बेचनी पड़ रही है.

प्रदेश की आमदनी पर भी असर

इसका असर सरकार की आमदनी पर भी पड़ रहा है. क्योंकि जिस बिजली को सरकार 4 रुपये 29 पैसे की दर से बेचता था, अब वह अपने प्रदेश के बिजली बोर्ड को 2 रुपये 48 पैसे प्रति यूनिट की दर से देनी पड़ रही है.

इतना ही नहीं, यूपी और बिहार के साथ हुए अनुबंध के तहत गर्मियों में चार महीने तक इन दोनों राज्यों को बिजली देनी पड़ती है. 450 मैगावाट के करार के मुताबिक इन दोनों राज्यों को बिजली उपलब्ध करवानी पड़ रही है.

ऐसे ही हालात रहे तो प्रदेश में बिजली का संकट खड़ा हो सकता है. हालांकि सरकार को उम्मीद है कि गर्मियों में बर्फ पिघलने की रफ्तार बढ़ेगी तो निजी और सरकारी क्षेत्र के तमाम प्रोजैक्टस में बिजली उत्पादन बढ़ जाएगा. लेकिन फिर भी सरकार के पास वर्तमान में बिजली संकट से उबरना बड़ी चुनौती होगा.
Loading...
हिमाचल वैसे तो 10 हजार 500 मैगावाट बिजली पैदा करता है. बहरहाल, देखना होगा कि जो सरकारा को राजस्व के रूप में नुकसान उठाना पड़ रहा है, उसके लिए क्या रास्ता निकाला जाता है.
पूरी ख़बर पढ़ें
Loading...
अगली ख़बर