लाइव टीवी

OMG! हिमाचली युवक के फेफड़े में 13 साल से फंसा था पेन का ढक्कन, IGMC ने ऐसे निकाला

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 12, 2019, 6:18 PM IST
OMG! हिमाचली युवक के फेफड़े में 13 साल से फंसा था पेन का ढक्कन, IGMC ने ऐसे निकाला
शिमला में युवक के पेट निकाला पेन का ढक्कन.

Pen cap removed after 13 years from Stomach: IGMC के पल्मोनरी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. आरएस नेगी ने बताया कि मरीज के मुताबिक़, करीब 13 साल पहले 2006 में उसकी एक गलती से पेन का ढक्कन पेट में चला गया था.

  • Share this:
शिमला. खेलते-खेलते यदि किसी स्वस्थ व्यक्ति या बच्चे के मुंह से कोई नुकीली चीज या अन्य प्रकार की सामग्री पेट (Stomach) में चली जाए तो उस व्यक्ति कि मौत तक हो सकती है. लेकिन यहां मामला कुछ अलग ही है. करीब 13 साल पहले चंबा (Chamba) के विपिन ने खेलते-खेलते पेन का ढक्कन (Pen Cap) निगल लिया था. 13 साल बाद जब उसे पता चला तो IGMC शिमला में पहुंचकर अपना इलाज कर पेन का ढक्कन निकाल पाया.

ऐसे हुआ संभव
ऐसा ब्रोंकोस्कॉपी तकनीक से सम्भव हो पाया है. चंबा के रहने वाले विपिन एक दिसंबर को प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल में अपना चेकअप कराने आए थे, लेकिन छाती और पेट में दर्द के चलते उनका सिटी स्कैन करवाया गया. सिटी स्कैन के बाद भी स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई. उसके बाद IGMC के डॉक्टरों ने ब्रोंकोस्कॉपी तकनीक से पेन के ढक्कन होने का पता लगाया और ब्रोंकोस्कॉपी तकनीक के माध्यम से ही डॉक्टरों कि टीम ने इसे सफलता पूर्वक बाहर निकाला है.

चंबा के विपिन के पेट से निकाला ढक्कन.
चंबा के विपिन के पेट से निकाला ढक्कन.


जब 21 साल के थे विपिन तब निगला था ढक्कन
IGMC के पल्मोनरी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. आरएस नेगी ने बताया कि मरीज के मुताबिक, करीब 13 साल पहले 2006 में उसकी एक गलती से पेन का ढक्कन पेट में चला गया था, लेकिन अब जब उसकी उम्र 34 के करीब पहुंची तो उसकी छाती और पेट में दर्द होना शुरू हो गया. कई बार डॉक्टरों को दिखाने के बाद सामान्य दवाई ही खाता रहा. जब शिमला में पहली बार विपिन ने डॉक्टरों से मुलाकात और उन्हें सभी टेस्ट प्रक्रिया करने को कहा. ब्रोंकोस्कॉपी टेस्ट के माध्यम से उनके पेट में पेन का ढक्कन होने कि मौजूदगी दिखाई दी और एक सप्ताह बाद पेन के इस ढक्कन को सफलता पूर्वक निकाला गया है.

शिमला का आईजीएमसी अस्पताल.
शिमला का आईजीएमसी अस्पताल.
IGMC में इस तरह के मरीज आए-डॉक्टर
अब मरीज कि हालत बिलकुल स्वस्थ है और आज उसे छुट्टी भी दे दी गई है. उन्होंने कहा कि इससे पहले भी IGMC में इस तरह के मरीज आए हैं, जिनका सफलतापूर्वक इलाज करवाया गया है. उन्होंने बताया कि किसी भी वस्तु के निगलने पर तुरंत डॉक्टरों के पास दिखाएं, ताकि मरीज कि जान को किसी तरह का कोई खतरा न हो.

ये भी पढ़ें:

हिमाचल में बर्फ‘भारी’ की 10 खूबसूरत PHOTOS


PHOTOS: मनाली शहर में सीजन का पहला हिमपात, सोलंगनाला-गुलाबा में भी बर्फबारी

कैबिनेट विस्तार: धवाला बोले–मंत्री बनने की इच्छा, कईयों ने सिलवाए हैं नए कोट

मंडी में पुलिस ने होटल में मारी रेड, चिट्टे के साथ नाबालिग लड़की सहित 4 पकड़े

हिमाचल में यहां फोरलेन पर बन रहा सबसे बड़ा 823 मीटर लंबा फ्लाईओवर और पुल

हिमाचल विस का शीत सत्र: अवैध खनन पर नोकझोंक, कांग्रेस का वॉकआउट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 5:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर