लाइव टीवी

अनावश्यक हॉर्न से परेशान जनता ने सरकार के फैसले का स्वागत किया

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 3, 2020, 7:59 PM IST
अनावश्यक हॉर्न से परेशान जनता ने सरकार के फैसले का स्वागत किया
राहगीरों ने कहा कि सड़क खाली होने पर भी गाड़ी चालक हॉर्न देते हैं.

ध्वनि प्रदूषण (Noise pollution) को कम करने को लेकर राज्य सरकार ने राजधानी शिमला (Shimla) और मनाली (Manali) के लिए आदेश जारी किए हैं. आदेशों के अनुसार अनावश्यक हॉर्न (Unnecessary horn) बजाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. हॉर्न से परेशान जनता (Public disturber by horn) ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है.

  • Share this:
शिमला. ध्वनि प्रदूषण (Noise pollution) को कम करने को लेकर राज्य सरकार ने राजधानी शिमला (Shimla) और मनाली (Manali) के लिए आदेश जारी किए हैं. आदेशों के अनुसार अनावश्यक हॉर्न (Unnecessary horn)बजाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. नियमों का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना (Fine) किया जाएगा. पर्यटक स्थल होने के चलते यहां वाहनों की संख्या ज्यादा रहती है. इसके अलावा राजधानी होने के चलते वैसे भी क्षमता से अधिक वाहन दौड़ते हैं. हालांकि अब तक पुलिस के पास यह आदेश नहीं पहुंचे हैं. आदेश लागू होने के बाद अब बेवजह हॉर्न बजाने वालों की खैर नहीं होगी. हॉर्न से परेशान जनता ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है. लोगों ने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि सड़क खाली होने के बाद भी गाड़ी चालक बेवजह हॉर्न देते हैं.

एक बस यात्री ने साफ-साफ कहा कि अनावश्यक हॉर्न नहीं बजाना चाहिए.


गाड़ी चालकों ने कहा- हॉर्न बजाने पर पूरी तरह पाबंदी सही नहीं

वहीं चालकों का कहना है कि पहाड़ी क्षेत्र होने के चलते हॉर्न बजाने पर पूरी तरह पाबंदी सही नहीं है. मोड़ पर हॉर्न बजाना बेहद जरूरी होता है. कई बार देखा गया है कि गाड़ियों में बहुत तेज म्यूजिक बज रहा होता है तो किसी के कानों में इयर फोन लगे होते हैं. ऐसे में अनहोनी से बचने के लिए हॉर्न बजाना जरूरी हो जाता है.

ये भी पढ़ें - सोलन : कोरोना वायरस को लेकर अस्पताल प्रशासन हाई अलर्ट पर

ये भी पढ़ें - स्मार्ट सिटी सर्वेक्षण : 29 फरवरी तक शिमलावासी दे सकते हैं सिटीजन फीडबैक

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 7:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर