कोरोना संक्रमित 2 मरीजों के लिए फरिश्ता बनकर पहुंची शिमला पुलिस, अस्पताल में कराया भर्ती

कोरोना मरीजों के घर पहुंचकर पुलिसकर्मियों ने उन्हें अस्पताल तक पहुंचाया.

कोरोना मरीजों के घर पहुंचकर पुलिसकर्मियों ने उन्हें अस्पताल तक पहुंचाया.

संजौली चौकी के कॉन्सटेबल नीरज और रात को पैट्रोलिंग डयूटी में तैनात कॉस्टेबल सुरेश कोरोना संक्रमितों के घर पहुंचे. पीपीई किट पहनकर महिला को स्ट्रेचर पर उठाया और रात 1 बजे के करीब आईजीएमसी पहुंचाया.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की शिमला पुलिस (Shimla Police) के जवान एक बार फिर जरूरतमंदों लिए फरिश्ता (angel) साबित हुए. आपदा के समय मदद के लिए हमेशा तैयार रहने वाली शिमला पुलिस ने एक बार फिर से मिसाल पेश की है. राजधानी के उपनगर संजौली (Sanjauli) में पुलिस के दो जवानों ने कोरोना संक्रमित 90 वर्षीय महिला को अस्पताल पहुंचाया.

पुलिस को कोरोना संक्रमितों के बारे में सूचना मिली

यह घटना शुक्रवार रात करीब 9:30 बजे की है. पुलिस को संजौली के एक स्थानीय निवासी ने फोन कर सूचना दी कि वर्धमान अपार्टमेंट में कोरोना संक्रमित 2 मरीजों की हालत काफी खराब हो रही है. उनके घर में कोई भी सदस्य मौजूद नहीं है जो उन्हें अस्पताल पहुंचा सके. थोड़ी देर बाद ही स्थानीय पार्षद ने भी पुलिस को फोन कर इसी घटना के बारे में बताया कि 90 वर्षीय शीला देवी की हालत काफी गंभीर है. ऑक्सीजन लेवल लगातार गिर रहा है. हालत ऐसी है कि वे घर से एंबुलेंस तक भी पैदल नहीं आ सकतीं. दूसरा शख्स 72 वर्षीय पुरुष हैं जो संक्रमित है और वे चलने में सक्षम हैं.

दो पुलिसकर्मियों ने दोनों मरीजों को अस्पताल पहुंचाया
इस सूचना पर संजौली चौकी इंचार्ज ने हेड कॉस्टेबल तेजा सिंह और कॉन्स्टेबल नीरज को मदद के लिए भेजा. दोनों जवान मौके पर पहुंचे और मरीजों के साथ संपर्क साधा. इसी बीच आईजीएमसी से एंबुलेंस भी वहां पर पहुंच गई थी. बुजुर्ग महिला की हालत लगातार खराब होती जा रही थी. रात के 11:30 बज चुके थे और एंबुलेंस में कोई और सदस्य नहीं था, जो पीपीई किट पहन कर घर जा सके. एंबुलेंस में कोई अतिरिक्त पीपीई किट भी नहीं था. पुलिस ने खुद पीपीई किट का प्रबंध किया और संजौली चौकी के कॉन्सटेबल नीरज और रात को पैट्रोलिंग डयूटी में तैनात कॉस्टेबल सुरेश ने पीपीई किट पहने. दोनों ने बिना समय गंवाए एंबुलेंस से स्ट्रेचर उठाया और कोरोना संक्रमितों के घर पहुंचे. महिला को स्ट्रेचर पर उठाया और रात 1 बजे के करीब आईजीएमसी पहुंचाया. अस्पताल में अब दोनों मरीज उपचाराधीन हैं. शिमला के एसपी मोहित चावला ने जवानों के कार्यों को सराहा है. उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी पुलिस के जवान लोगों की मदद में जुटे हुए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज