‘शिमला में पुलिस की संलिप्तता और एंबुलेंस में सप्लाई होता है नशा’

जिला परिषद अध्यक्ष उर्मिला हरनोट ने कहा कि नशे को लेकर सदस्यों ने चिंता जाहिर की है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में नशे की गिरफ्त में युवा पीढ़ी आ रही है.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 4, 2019, 6:20 PM IST
‘शिमला में पुलिस की संलिप्तता और एंबुलेंस में सप्लाई होता है नशा’
हिमाचल में ड्रग्स. (सांकेतिक तस्वीर)
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 4, 2019, 6:20 PM IST
हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले में नशे का कारोबार अब ग्रामीण क्षेत्र में काफी फैल रहा है. ग्रामीण क्षेत्रों में भी युवा वर्ग चिट्टे के आदी हो रहे हैं. गुरुवार को शिमला जिला परिषद की बैठक में नशे पर जिला परिषद सदस्यों ने चिंता जाहिर की और पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं.

ये आरोप लगाए
सदस्यों ने आरोप लगाया पुलिस की देखरेख में ही नशा माफिया फल -फूल रहा है, लेकिन पुलिस द्वारा कोई भी कार्रवाई नहीं की जा रही है. सदस्यों ने आरोप लगाया कि पुलिस शहरों में ही नशे को लेकर जागरूक अभियान चलाती है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस न तो नशे को रोकने का काम करती है और न ही कारोबारियों को पकड़ा जा रहा है. सदस्यों ने पुलिस पर नशे के कारोबारियों से मिलीभगत करने का भी आरोप लगाया है.

ग्रामीण इलाकों में पहुंचा चिट्टा

जिला परिषद सदस्य नीलम सरैक ने कहा कि ऊपरी शिमला में कई क्षेत्र नशे के हब बन चुके हैं और जिला में करीब 80 फिसदी युवा इसकी चपेट में आ गए हैं. कुछ दिन पहले जब नशा कारोबारी पकड़े गए तो उन्होंने बताया कि एंबुलेंस में नशे का सामान आता है और पुलिस की मिलीभगत से ही यह कारोबार चल रहा है. उन्होंने कहा पुलिस शहरी क्षेत्र में तो नशे के खिलाफ अभियान चला रही है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में कोई काम नहीं किया जा रहा है. उन्होंने मांग की कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी जागरूक अभियान चलाया जाए और नशे के कारोबारियों को पकड़ा जाए.

ये मांग भी की
जिला परिषद अध्यक्ष उर्मिला हरनोट ने कहा कि नशे को लेकर सदस्यों ने चिंता जाहिर की है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में नशे की गिरफ्त में युवा पीढ़ी आ रही है. इस रोकने के लिए पुलिस विभाग और अन्य विभाग को मिलकर काम को कहा गया है. जिला परिषद की त्रैमासिक बैठक के दौरान जिला परिषद सदस्यों ने अधिकारियों से जिला में सड़कों की हालत को दुरुस्त करने की मांग की है.
Loading...

सड़कों की हालत बदहाल
जिला परिषद सदस्यों का कहना है कि ऊपरी शिमला में सेब सीजन शुरू होने वाला है, लेकिन जिला के ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों की हालात काफी दयनीय हैं लेकिन सरकार औएर अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं, जिसका खामियाजा जिला के बागवानों को उठाना पड़ सकता है. बैठक में सदस्यों ने आवारा पशुओं और कुतों से निजात दिलाने भी मांग की.

ये भी पढ़ें: चंबा में नशा पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला, 20 हजार भी लूटे

चंबा में भरमौर चौक पर चिट्टे-नशीले कैप्सूल के शख्स गिरफ्तार
First published: July 4, 2019, 4:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...