लाइव टीवी

हिमाचल: बर्फबारी में फंसे लोगों के लिए मसीहा बनी पुलिस, 187 लोगों की बचाई जान
Shimla News in Hindi

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 19, 2020, 7:34 PM IST
हिमाचल: बर्फबारी में फंसे लोगों के लिए मसीहा बनी पुलिस, 187 लोगों की बचाई जान
पुलिस ने सुबह 4 बजे तक राहत और बचाव कार्य चलाया. सभी को कुफरी में ही एक निजी होटल में ठहराया.

शिमला के एसपी ओमापति जम्वाल (SP Omapati Jamwal) के पीएसओ शांति स्वरूप ने भी मिसाल पेश की. शांति स्वरूप ने बर्फबारी के बीच सड़क पर फंसी एक गर्भवती महिला और 80 वर्षीय कैंसर पीड़ित को कुफरी से अस्पताल पहुंचाया.

  • Share this:
शिमला. शिमला पुलिस (Shimla Police) एक बार फिर से आम जनता और पर्यटकों के लिए मसीहा साबित हुई. शनिवार की शाम को बर्फबारी और ओलावृष्टि से हालात एक बार फिर से खतरनाक बन गए थे. पुलिस के जवानों और अधिकारियों ने जोखिम लेकर गाड़ी चलाने वालों और मरीजों के लिए जान पर बन आई. कुफरी में बसों समेत पर्यटकों के 31 वाहन बुरी तरह से फंस गए थे. इन वाहनों में महिलाओं और बच्चों समेत 187 लोग (one hundred eighty seven people saved his life) सवार थे. पुलिस ने सुबह 4 बजे तक राहत और बचाव कार्य चलाया. सभी को कुफरी में ही एक निजी होटल में ठहराया. इसके अलावा बसों और अन्य गाड़ियों को भी निकाला. शिमला के एसपी ओमापति जम्वाल (SP Omapati Jamwal) के पीएसओ शांति स्वरूप ने भी मिसाल पेश की. शांति स्वरूप ने बर्फबारी के बीच सड़क पर फंसी एक गर्भवती महिला और 80 वर्षीय कैंसर पीड़ित को कुफरी से अस्पताल पहुंचाया.

एसपी जम्वाल ने गर्भवती महिला और 80 वर्षीय कैंसर पीड़ित को पहुंचाया हॉस्प्टिल

सड़क पर फिसलन बढ़ने से वाहनों के पहिए थम चुके थे और लंबा जाम लगा था. परिजनों के साथ अस्पताल आ रही महिला की गाड़ी फंस गई थी. कैंसर पीड़ित के जल्द अस्पताल पहुंचने की उम्मीदें भी कम ही नजर आ रही थीं. ऐसे में पीएसओ ने अपनी निजी गाड़ी में तीमारदारों समेत गर्भवती और कैंसर पीड़ित को अस्पताल पहुंचाया.

Police officer
पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों ने वाहनों को खुद धक्के देकर निकाला.


पुलिस अधिकारी अभिषेक यादव और प्रमोद शुक्ला ने भी लिया मोर्चा

वहीं दूसरी ओर भारी ओलावृष्टि से टुटू और घणाहट्टी के बीच करीब 600 गाड़ियां फंसी थी और सड़क के दोनों ओर करीब 60 बसों के पहिए थम गए थे. पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों ने वाहनों को खुद धक्के देकर निकाला. आईपीएस अभिषेक यादव ने भी मिसाल पेश की. अभिषेक यादव खुद गाड़ियों को धक्का देते हुए नजर आए. उनके साथ डीएसपी प्रमोद शुक्ला भी वाहनों को धक्का देते हुए नजर आए. जाम को खुलवाने और सड़क पर फंसे हुए वाहनों और लोगों को निकालने के लिए देर रात तक डटे रहे.

यह भी पढ़ें: किन्नौर के रिब्बा गांव में आया एवलांच, घड़ी भर में छा गया बर्फ का गुबारकुल्लू: बर्फ के चलते फिसलकर आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ता की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 7:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर