अपना शहर चुनें

States

सार्वजनिक एवं निजी स्थलों पर प्रचार सामग्री लगाने पर पाबंदी

प्रतीकात्मक तस्वीर.
प्रतीकात्मक तस्वीर.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी पुष्पेन्द्र राजपूत ने कहा कि आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार, किसी भी सार्वजनिक सम्पत्ति एवं सार्वजनिक परिसर की दीवारों पर लिखने, पोस्टर अथवा पेपर लगाने, किसी भी प्रकार से सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने, कटआउट, होर्डिंग, बैनर तथा झंडे लगाने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2017, 5:30 PM IST
  • Share this:
मुख्य निर्वाचन अधिकारी पुष्पेन्द्र राजपूत ने कहा कि आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार, किसी भी सार्वजनिक सम्पत्ति एवं सार्वजनिक परिसर की दीवारों पर लिखने, पोस्टर अथवा पेपर लगाने, किसी भी प्रकार से सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने, कटआउट, होर्डिंग, बैनर तथा झंडे लगाने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

राजपूत ने कहा कि यदि स्थानीय कानून किसी सार्वजनिक स्थान की दीवार पर नारा लेखन, पोस्टर लगाना अथवा कट आउट, होर्डिंग, बैनर या राजनीतिक विज्ञापन लगाने की अनुमति, भुगतान या अन्य किसी आधार पर देता है तो ऐसा न्यायालय के आदेशों एवं कानून के प्रावधानों के अनुसार किया जा सकता है.

यह सुनिश्चित बनाना होगा कि ऐसा स्थान किसी विशेष दल अथवा उम्मीदवार के आधिपत्य में न रहे. इस संबंध में सभी दलों और उम्मीदवारों को बराबर अवसर प्रदान किया जाएगा.



मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि यदि स्थानीय कानून निजी सम्पत्ति की दीवारों पर लिखने, पोस्टर चिपकाने अथवा ऐसे कार्य की अनुमति नहीं देते जिससे सम्पत्ति खराब होती हो और जिसे हटाया न जा सके, तो इसकी अनुमति सम्पत्ति के मालिक की सहमति के बाद भी नहीं दी जाएगी.
उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल, उम्मीदवार, उनके एजैंट, कार्यकर्ता और सहयोगी अपने परिसर में चुनाव चिन्ह दर्शाता एक झंडा लगा सकते हैं. किंतु ऐसा वे अपनी इच्छा से और किसी भी दल, संस्था और व्यक्ति के दबाव के बिना करेंगे.

ऐसा करने से किसी को भी परेशानी नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी भी निजी सम्पत्ति पर राजनीतिके विज्ञापन दर्शाता कोई भी होर्डिंग, बैनर अथवा कटआउट नहीं लगाया जा सकेगा.

राजपूत ने कहा कि स्थानीय कानून के अनुसार यदि उम्मीदवार अथवा राजनीतिक दल किसी निजी सम्पत्ति पर पोस्टर, बैनर, होर्डिंग इत्यादि लगाएंगे तो ऐसे में उन्हें सम्पत्ति के मालिक से लिखित में अनुमति प्राप्त कर इसकी प्रति निर्वाचन अधिकारी के पास जमा करवानी होगी. विशेष अभियान पर किया गया खर्च उम्मीदवार के चुनावी खर्च में जोड़ा जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज