पुलवामा हमला: आतंकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन, जलाया पुतला

भूतपूव सैनिकों का कहना है कि वे देश की रक्षा के लिए एक बार फिर से सीमा पर जाने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि जब भी उन्हें आवाज दी जाएगी वे सरहद पर जंग लड़ने के लिए तैयार है.

  • Share this:
जम्मू कश्मीर क पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए फिदायीन हमले के बाद देशभर में उठा उबाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. हिमाचल प्रदेश के पांवटा साहिब में भी आतंकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ जमकर रोष प्रदर्शन किया गया.



भूतपूर्व सैनिकों ने हमले में शहीद हुए वीर सपूतों को याद किया और श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए रोष मार्च निकाला. रोष मार्च में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं सहित स्थानीय यूनियनों और स्थानीय लोगों ने हिस्सा लिया. देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान करने वाले शहीद जवानों के परिजन भी इस रोष प्रदर्शन के समर्थन में सड़कों पर उतरे. आतंकवाद और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे शहर में गूंज उठे. इस दौरान पाकिस्तान का पुलता भी फूंका गया. भूतपूव सैनिकों का कहना है कि वे देश की रक्षा के लिए एक बार फिर से सीमा पर जाने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि जब भी उन्हें आवाज दी जाएगी वे सरहद पर जंग लड़ने के लिए तैयार है.



पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले ने शहीदों ने परिवारों के जख्म भी फिर से हरे कर दिए हैं. शहीदों के परिवार और भूतपूर्व सैनिक इस हमले से सिहर उठे हैं. पावंटा साहिब में करगिर शहीद की पत्नी वीणा देवी ने भारत माता की जय का उद्घोष करते हुए ऐलान किया कि उनकी और उनके शहीद पति की संतानों को भी देश पर न्योछापर करने के लिए वे तैयार है.





आपको बता दें कि 14 फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आईईडी हमला किया गया, जिसमें देश के 40 जवान शहीद हो गए थे. हमले की जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन जैस ए मोहम्मद ने ली है. हमले के बादे से ही देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.
यह भी पढ़ें-  पुलवामा हमले के बाद हिमाचल से गिरफ्तार कश्मीरी युवक की पहली तस्वीर आई सामने



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज