• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • हिमाचल में फिर 2 दिन भारी बारिश का अलर्ट, भूस्खलन से अभी भी 218 सड़कें बंद

हिमाचल में फिर 2 दिन भारी बारिश का अलर्ट, भूस्खलन से अभी भी 218 सड़कें बंद

हिमाचल प्रदेश में मानसून के कारण तबाही मची है.

हिमाचल प्रदेश में मानसून के कारण तबाही मची है.

Rain in Himachal: बारिश से राज्य में 8 दुकानें, 10 पुल एवं 458 गौशालाएं क्षतिग्रस्त हुई हैं. आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के मुताबिक मानसून सीजन में आपदा के चलते 681 करोड़ की चल-अचल संपत्ति का नुकसान हुआ है.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश में मानसून (Monsoon) की सक्रियता से बारिश का दौर जारी है. राजधानी शिमला सहित अधिकांश भागों में सोमवार सुबह से रुक-रुक कर बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने एक सप्ताह तक बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना जताई है. राज्य के मैदानी और मध्यपर्वतीय इलाकों के 4 और 5 अगस्त को भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. विभाग ने इन क्षेत्रों में व्यापक बारिश का येलो अलर्ट भी जारी किया है.

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक सुरेंद्र पाल ने खराब मौसम के मद्देनजर लोगों और पर्यटकों को नदी-नालों से दूरी बनाए रखने का परामर्श दिया है. उन्होंने कहा कि लाहौल-स्पीति एवं किन्नौर को छोड़कर शेष सभी 10 जिलों के कुछ स्थानों में 4 और 5 अगस्त को भारी बारिश होने की आशंका है.

कहां-कहां कितनी बारिश
बीते 24 घंटों के दौरान पालमपुर में 30 एमएम, बिजाई और नगरोटा सूरियां में 24-24, सियोबाग में 19, अंब में 18, नादौन में 17, धर्मपुर में 12, काहू में 10, सुजानपुर टीहरा में 9 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है. बारिश की वजह से राज्य के नदी-नाले उफान पर हैं. सोमवार को भूस्खलन की वजह से राज्य में 218 सड़कें अवरुद्व रहीं. शिमला में 87, मंडी में 70, कुल्लू में 33, हमीरपुर में 8, कांगड़ा में 7, सिरमौर में 5, चंबा में 4, लाहौल-स्पीति में 3 और उना में 1 सड़क यातायात के लिए बाधित है. बरसात के कारण पानी की 46 स्कीमें प्रभावित रहीं. वहीं, 14 मकानों, 8 घरों और एक दुकान भी क्षतिग्रस्त हुई.

शिमला में एक शख्स बहा
इस बीच सोमवार को राज्य में बरसात की वजह से एक व्यक्ति की मृत्यु हुई. शिमला जिला में एक व्यक्ति की बहने से जान गई. व्यक्ति का शव बरामद कर लिया गया है. बता दें कि मानसून सीजन के दौरान वर्षा जनित घटनाओं में 214 लोगों की मौत हो चुकी है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के अनुसार मानसूनी बारिश के कारण 110 मौतें सड़क हादसों में हुई हैं. भूस्खलन से 21, फलैश फलड व बादल फटने की घटनाओं में नौ, नदी-नालों में बहने व डूबने से 19, आगजनी में दो, सर्पदंश में सात, करंट लगने से चार, फिसलने व गिरने से 27 तथा अन्य कारणों से 14 लोगों की जान गई है.

अब तक 681 करोड़ रुपये का नुकसान
इसके अलावा, मानसून में आई आपदाओं में 440 जानवर मारे गए. मानसून सीजन में 112 मकान पूरी तरह से तबाह हो गए. वहीं 522 मकानों को आंशिक क्षति पहुंची है. कांगड़ा में सबसे ज्यादा 212 मकानों को नुकसान पहुंचा है. इसके अलावा बारिश से राज्य में आठ दुकानें, 10 पुल एवं 458 गौशालाएं क्षतिग्रस्त हुईं. आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के मुताबिक मानसून सीजन में आपदा के चलते 681 करोड़ की चल-अचल संपति ध्वस्त हुई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज