अपना शहर चुनें

States

सिरमौर में मां और बेटे के मिलने के साथ शुरु हुआ अंतराष्ट्रीय रेणुका मेला

सिरमौर में मेले का आगाज.
सिरमौर में मेले का आगाज.

रेणुका जी मेले में न केवल हिमाचल प्रदेश बल्कि बाहरी राज्यों से भी हर साल लाखों की तादाद में लोग पहुंचते हैं, मगर इस बार कोविड-19 के कारण मेले की मात्र औपचारिकताए ही निभाई जा रही है.

  • Share this:
नाहन. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के सिरमौर (Sirmour) जिले में भगवान परशुराम और मां रेणुका के मिलन के प्रतीक अंतरराष्ट्रीय श्री रेणुका की मेले (Renuka Ji Fair) का शुभारंभ हो गया है. मंगलवार को 30 नवंबर तक चलने वाले इस मेले का डीसी सिरमौर (DC Sirmour) डॉ आरके परुथी ने भगवान परशुराम की पालकी को कंधा देकर शुभारंभ किया.

शोभायात्रा पर बैन लगाया

कोविड के चलते इस बार शोभा यात्रा पर प्रतिबंध लगाया गया था. लिहाजा, रेणुका मंदिर परिसर में ही देव पालकियों का स्वागत किया गया. परंपरा अनुसार, इस बार भी राज परिवार के सदस्यों ने रेणुका पहुंचने पर देव पालकियों का स्वागत किया राजपरिवार के सदस्य कंवर अजय बहादुर सिंह ने देव पालकी के स्वागत की परंपरा निभाई.



क्या बोले डीसी
डीसी डॉ आरके परुथी ने बताया कि इस बार मेले  के लिए कोविड-19 के मद्देनजर विशेष एसओपी जारी की गई है. उन्होंने कहा कि 10 साल से कम और 65 साल से ऊपर की उम्र के लोगों को मेले में ना आने की सलाह दी गई है. साथ ही इस बार सिर्फ 3 देवी-देवताओं की पालकियों को आमंत्रित किया गया, ताकि अधिक सँख्या में लोग न पहुँचे और संक्रमण फैलने का खतरा न रहे. प्रशासन द्वारा कोविड जाँच के लिए भी यहां सेंटर बनाया गया है. साथ ही जगह-जगह कोरोनाजागरूकता स्लोगन लिखे गए है.

क्या बोले अजय बहादुर सिंह

राज परिवार के सदस्य व नाहन के पूर्व विधायक कंवर अजय बहादुर सिंह ने बताया कि कई सदियों से राज परिवार पार्टियों के स्वागत की परंपरा निभा रहा है उन्होंने कहा कि वह अपने आप को सौभाग्य शाली मानते हैं कि उन्हें इस परंपरा का निर्वहन करने का अवसर मिल रहा है. रेणुका जी के स्थानीय विधायक विनय कुमार ने जिला व प्रदेश वासियों को अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेले की बधाई दी साथ ही लोगों से आह्वान किया कि मेले के दौरान रेणुका जी पहुंचने वाले लोगों को प्रशासन द्वारा जारी एसओपी का पालन करें, ताकि कोरोना संक्रमण न फैले. मेला सूक्ष्म रूप से मनाया जा रहा है जिसके चलते कुछ परंपराएं नही निभाई जा सकी. उन्होंने भगवान परशुराम और माता रेणुका से कामना की कि देश प्रदेश को जल्द कोरोना महामारी से छुटकारा मिले. गौर हो कि रेणुका जी मेले में न केवल हिमाचल प्रदेश बल्कि बाहरी राज्यों से भी हर साल लाखों की तादाद में लोग पहुंचते हैं, मगर इस बार कोविड-19 के कारण मेले की मात्र औपचारिकताए ही निभाई जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज