अपना शहर चुनें

States

किसान आंदोलन में हिंसा: हिमाचल कांग्रेस के निशाने पर केंद्र सरकार और दीप सिद्धू

हिमाचल कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर. (FILE PHOTO)
हिमाचल कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर. (FILE PHOTO)

Republic Day Violence: कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर और शिमला ग्रामीण से कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह घटना पर बयान दिया है. विक्रमादित्य सिंह ने भाजपा सांसद सन्नी देओल पर निशाना साधा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 8:43 AM IST
  • Share this:
शिमला. गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर दिल्ली में किसान आंदोलनकारियों के उत्पात, हिंसा और लाल किले पर धर्म विशेष का ध्वज फहराने की घटना की हिमाचल कांग्रेस (Himachal Congress) ने निंदा की है. साथ ही केंद्र सरकार पर भी निशाना साधा है. कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर और शिमला ग्रामीण से कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह घटना पर बयान दिया है. विक्रमादित्य सिंह ने भाजपा सांसद सन्नी देओल पर निशाना साधा है.

ये बोले राठौर
हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने कहा कि लाल किले की घटना और हिंसा को कुछ शरारती तत्वों ने अंजाम दिया है. गणतंत्र दिवस के पावन मौके पर तिरंगे के आगे कोई अन्य ध्वज फहराना निंदनीय है. उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में कुछ अराजतत्व घुस आए हैं जो इसे बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं. आंदोलन की शुरूआत से ही कोई न कोई साजिश रची जा रही है. पुलिस पर सवाल उठाते हुए राठौर ने कहा कि पुलिस इस मामले पर मूकदर्शक बनी रही,ऐसा नजर आ रहा है कि किसी को इशारे पर ये सब किया गया और इसके पीछे कोई एजेंडा है. दीप सिद्धू के मामले पर कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि इस प्रकरण की जांच होनी चाहिए. पूरे मामले पर एक निष्पक्ष जांच हो और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाए.

ये बोले विक्रमादित्य सिंह
विक्रमादित्य सिंह ने पूरे मामले पर दीप सिद्धू के साथ सन्नी दयोल की फोटो वायरल होने पर उनसे स्पष्टीकरण मांगा और पूछा है कि वो जिस दीप सिद्धू को पीएम मोदी को मिलवाने ले गए थे, वह कौन है? उन्होंने कहा कि गणतंत्र दिवस पर बुधवार को जो कुछ भी दिल्ली में हुआ, वह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है. भारत के राष्ट्रीय ध्वज का अपमान देश का अपमान है, जो हम बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं कर सकते. जिन लोगों ने भी यह किया हैं, उन्हें तुरंत गिरफ़्तार किया जाना चाहिए और उनके ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई होनी चाहिए. साथ ही कहा कि किसान की मांगों का पूर्ण समर्थन करते हैं, लेकिन विरोध के नाम पर किए गए उत्पात के बाद इस पूरे आंदोलन पर एक बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह लग गया हैं.



उन्होंने कहा कि किसान संगठनों को इस तरह के तत्वों को अपने आंदोलन से बाहर रखना चाहिए, नहीं तो आंदोलन की विश्वसनीयता पर उंगलियां उठने लगेंगी. वहीं दूसरी ओर सन्नी देयोल ने ट्वीट कर पूरे मामले में स्पष्टीकरण दिया है. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि “दीप सिद्धू के साथ उनका कोई संबंध नहीं है और वह छह दिसंबर को पहले भी यह स्पष्ट कर चुके हैं.” बता दें कि इस पूरे घटनाक्रम के बाद पीएम मोदी, सांसद सन्नी देओल और दीप सिद्धू की तस्वीर वायरल हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज