लाइव टीवी

मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन की समीक्षा बैठक, 1 माह में आए 64 हजार कॉल

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 17, 2019, 10:38 PM IST
मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन की समीक्षा बैठक, 1 माह में आए 64 हजार कॉल
लोक निर्माण विभाग को मिली सबसे ज्यादा शिकायतें

जयराम सरकार ने लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए एक टॉल फ्री नंबर 1100 जारी किया था, जिस पर घर बैठे कोई भी अपनी शिकायत, मांगें और सुझाव दर्ज करवा सकता है. सरकार को मिली रिपोर्ट में एक महीने में 63 हजार 805 कॉल प्राप्त हुई हैं.

  • Share this:
शिमला. एक फोन कॉल पर लोगों की समस्याओं का समाधान करवाने के उद्देश्य से बनाई गई मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन (Helpline) को एक महीना पूरा हो गया है. 17 सितंबर को शुरू हुई इस योजना की पहली समीक्षा मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी ने राज्य सचिवालय में की. इसमें सभी 63 विभागों के विभाग प्रमुख भी मौजूद रहे. जयराम सरकार (Jairam Government) ने लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए एक टॉल फ्री नंबर 1100 जारी किया था, जिस पर घर बैठे कोई भी अपनी शिकायत, मांगें और सुझाव दर्ज करवा सकता है. सरकार को मिली रिपोर्ट में एक महीने में 63 हजार 805 कॉल प्राप्त हुई हैं. इनमें 17 हजार 65 शिकायतें, 3221 मांगें और सुझाव मिले हैं. मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी (Chief Secretary Dr. Srikant Baldi) ने कहा कि इनमें से 60 प्रतिशत का समाधान कर लिया गया है.

ये विभाग साबित हुई फिसड्डी

सबसे ज्यादा शिकायतें लोक निर्माण विभाग से संबंधित हैं. सूत्रों के मुताबिक लोक निर्माण विभाग को कुल 2746 शिकायतें मिली हैं. यही वजह है कि इस विभाग ने केवल 31 प्रतिशत शिकायतों का ही पूर्ण समाधान किया है. इसके बाद ग्रामीण विकास से जुड़ी शिकायतों की फेहरिस्त भी लंबी है. इस विभाग के पास कुल 1604 शिकायतें आई जिसमें 50 प्रतिशत से ज्यादा शिकायतों का निवारण हो चुका है. कई विभाग ऐसे भी हैं जो 50 प्रतिशत से कम शिकायतों का निवारण ही कर पाए हैं. इनमें स्वास्थ्य विभाग, उच्च शिक्षा विभाग, राजस्व विभाग, प्रारंभिक शिक्षा, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, एचआरटीसी, नगर निगम शिमला, उद्योग विभाग, आईपीएच, लोक निर्माण, आयुर्वेद, कृषि, शहरी विकास विभाग सहित कुछ और भी महत्वपूर्ण विभाग शामिल हैं. शिकायतों के निवारण में पहले स्थान पर आईटी विभाग है जबकि खाद्य आपूर्ति, एससी, एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यक मामले विभाग ने भी 50 प्रतिशत से ज्यादा शिकायतों का निवारण कर लिया है.

इन जिलों ने पाया बेहतर रैंक

सीएम सेवा संकल्प हेल्पलाइन के तहत आई शिकायतों का निवारण करने में कई जिलों ने बेहतर भूमिका निभाई है. इसलिए उन्हें पहली समीक्षा बैठक में रैंकिंग भी मिली है. सिरमौर जिला को रैंक 1मिला है. इसी तरह दूसरे नंबर पर मंडी, तीसरे नंबर पर बिलासपुर, चौथे नंबर पर कांगड़ा, पांचवें नंबर पर सोलन, छठे नंबर पर हमीरपुर, सातवें नंबर पर ऊना, आठवें नंबर पर कुल्लू, नवें नंबर पर चंबा, दसवें नंबर पर शिमला, ग्यारहवें नंबर पर किन्नौर और अंतिम पायदान पर लाहौल स्पीति जिला शामिल है.

मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन से मिली शिकायतों के निवारण में आईटी विभाग रहा नंबर वन


पॉलिसी मैटर नहीं सुलझा पा रही हेल्पलाइन
Loading...

मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन की समीक्षा के दौरान कई और बातें भी सामने आई हैं जिसमें विभाग प्रमुखों ने अपने सुझाव भी दिए हैं. खासकर नीतिगत मामलों पर हेल्पलाइन के जरिए समाधान नहीं हो रहा. कई लोगों ने 1100 नंबर पर कॉल करके सरकारी संस्थानों में कमियों को दूर करने की मांगें भी रखी हैं. इसका जिलास्तर पर समाधान संभव नहीं है. मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी ने कहा कि कई जगह से ऐसी भी कॉल आई हैं जिसमें अस्पतालों में बेड की कमी, मशीन ठीक न होना, स्कूलों में अध्यापक न होना, नए स्कूल खोलना सहित नई सड़क बनाने से जुड़ी मांगें भी आई हैं. उन्होंने कहा कि ये सभी सीएम हेल्पलाइन के दायरे में नहीं हैं. इन समस्याओं के समाधान के लिए सरकार को नीतिगत फैसला लेना होता है. लोगों की शिकायतों को घर बैठे दूर करने में सीएम हेल्पलाइन कारगर साबित हुई है और लोगों को कार्यालयों के चक्कर भी काटने नहीं पड़ रहे हैं.

बहरहाल पहली समीक्षा बैठक में कई बातें निकलकर सामने आईं हैं. कई विभागों की शिकायतों के निपटान की गुणवता कमजोर भी दिखी. ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि शिकायतों के पूर्ण निपटान की दर आने वाले समय में जरूर बढ़ेगी.

ये भी पढ़ें - कांगड़ा जिले में 6 ग्राम चिट्टा और 65 नशीले कैप्सूल के साथ दो गिरफ्तार

ये भी पढ़ें - कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने CM की रैली पर कहा, किराए के लोग हुए शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 10:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...