HPCA केस: SC ने अनुराग ठाकुर से पूछा- याचिका वापस लेंगे या बहस चाहते हैं
Shimla News in Hindi

HPCA केस: SC ने अनुराग ठाकुर से पूछा- याचिका वापस लेंगे या बहस चाहते हैं
भाजपा के सांसद और एचपीसीए के पूर्व अध्यक्ष हैं अनुराग ठाकुर.

अनुराग ठाकुर की तरफ से कहा गया कि कांग्रेस की सरकार के समय मेरे ऊपर और कुछ आईएएस के ऊपर FIR दर्ज की गई थी.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (एचपीसीए) के स्टेडियम से जुड़े मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा सांसद और एचपीसीए के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर से जवाब मांगा है.

कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को कहा कि आप 26 जुलाई को कोर्ट में बताएं कि आप अपनी याचिका वापस लेना चाहते हैं या उस पर बहस चाहते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि यह पूरा राजनीतिक मामला है, हम इस पर नहीं जाएंगे, हम केस को मैरिट के हिसाब से सुनेंगे. साथ ही जब सरकार सारी FIR वापस ले रही है तो हम इस मामले में दखल क्यों दे?

कोर्ट ने कहा कि केस वापस हो जाता है तो इसमें आपके लिए राहत होगी, लेकिन अगर याचिका को ख़ारिज करते तो आपको दिक्कत होगी. वहीं, अनुराग ठाकुर की तरफ से कहा गया कि वह चाहते हैं कि कोर्ट FIR को रद्द करे. अनुराग ठाकुर की तरफ से कहा गया कि कांग्रेस की सरकार के समय मेरे ऊपर और कुछ आईएएस के ऊपर FIR दर्ज की गई थी.



इस मामले में 7 केस दर्ज किए गए हैं, जिसमें से 2 केस हाईकोर्ट ने रद्द कर दिए थे. 23 फ़रवरी 2015 को राज्य सरकार ने स्टेडियम को सीज कर दिया था, हाईकोर्ट ने बाद में स्टेडियम से सीज हटाने का फरमान सुनाया था.



तीन मामलों में सीधे प्रतिवादी हैं अनुराग
एचपीसीए धर्मशाला के खिलाफ़ पांच मामले दर्ज किए गए थे. ये मामले तत्कालीन वीरभद्र सरकार ने एचपीसीए अध्यक्ष अनुराग ठाकुर के खिलाफ़ दर्ज करवाए थे, इसमें से मुख्य तीन मामले थे जिसमें अनुराग ठाकुर सीधे तौर पर प्रतिवादी थे.

ये हैं पांच मामले
1. अगस्त 2013 को एचपीसीए सोसायटी को अंडर सेक्शन 25 के तहत कंपनी बनाने संबंधी.
2. 3 अक्तूबर 2013 को सरकारी भवन गिराकर स्टेडियम का अतिरिक्त निर्माण किया गया था, इसमें तत्कालीन जिला उपायुक्त केके पंत और अनुराग ठाकुर, डिग्री कॉलेज धर्मशाला के प्रिंसीपल नरेंद्र अवस्थी, दूसरे प्रिंसीपल ललित मोहन शर्मा (ललित मोहन शर्मा का केस वापस ले लिया गया था) इसके अलावा पीडब्लूडी के एक्सियन देवी चंद चौहान एसडीओ एम एस कटोच, एचपीसीए प्रवक्ता संजय शर्मा और अन्य पदाधिकारी अत्तर सिंह नेगी व गौतम ठाकुर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.
3. 29 नबंवर 2013 होटल पवेलियन के निर्माण के लिए चीड़ के 15 सौ पेड़ों के कटान के आरोपों के तहत भी मामला दर्ज किया गया था.
4. 24 अक्तूबर 2013 को अनुराग ठाकुर समेत आठ अन्य लोगों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने को लेकर, जिसमें (विजिलेंस कार्यालय में पेशी के दौरान शक्ति प्रर्दर्शन और नारेबाजी करना) मामला दर्ज किया गया था.
5. 26 अक्टूबर, 2013 को धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम के ताले तोड़ने के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को भी प्रतिवादी बनाने की याचिका दायर की गई थी. सर्वोच्च न्यायालय में मामला विचाराधीन होने के चलते फिलहाल ये तमाम मामले अधर में लटके हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading